Tuesday, December 1, 2015

Murli 01 December 2015

01/12/15 Morning Murli Om Shanti BapDada Madhuban

Sweet children, your days of sorrow are now over. You are now going to such a world that nothing is unattained there.   
By keeping the significance of which two words in your intellects is it possible to have unlimited disinterest in the old world?
The significance of the descending stage and the ascending stage is in your intellects. You know that we have been descending for half a cycle; it is now time to ascend. The Father has come to give us true knowledge to make us into Narayan from ordinary humans. The iron age has now come to an end for us and we are going to the new world. This is why we have unlimited disinterest.
Have patience, o man! Your days of happiness are about to come.   
Om Shanti
You sweetest, spiritual children heard the song. The spiritual Father sits here and explains: This is the only elevated confluence age when the Father comes every cycle and teaches the spiritual children. He teaches us Raja Yoga. The Father says to the spiritual children: O human beings, that is, o souls, have patience! He speaks to souls. The soul is the master of this body. The soul says: I am an imperishable soul; this body of mine is perishable. The spiritual Father says: I only come once, at the confluence age, to give you children the patience of knowing that your days of happiness are now coming. You are now in the land of sorrow and the extreme depths of hell. It isn’t just you children, but the whole world, who are in the extreme depths of hell. Those who have become My children have emerged from the extreme depths of hell and are going to heaven. The golden, silver and copper ages have passed. The iron age has also passed for you. For you, it is now the elevated confluence age when you become satopradhan from tamopradhan. When the soul becomes satopradhan he will leave the body. In the golden age, a satopradhan soul needs a new body. There, everything is new. Baba says: Children, you now have to go from the land of sorrow to the land of happiness. Therefore, make effort. In the land of happiness it was the kingdom of Lakshmi and Narayan. You are making effort to change from ordinary humans into Narayan. This is the true knowledge to become Narayan from an ordinary human. On the path of devotion they listen to the stories of the scriptures on the night of the full moon. However, that is the path of devotion. You cannot call that the path of truth; the path of knowledge is the true path. While descending the ladder you came into the land of falsehood. You now know that, having attained this knowledge from the true Father, we will become deities for 21 births. We were that and then we came down the ladder. The significance of the stages of descending and ascending is in your intellects. They even call out: O Baba, come and purify us! Only the one Father can purify us. Baba says: Children, you were the masters of the world in the golden age. You were very wealthy and happy. There is now little time left. The destruction of the old world is in front of you. In the new world, there is one kingdom and one language. That is called the undivided kingdom. At present, there are many divisions and many languages. Just as the human world tree grows, so the tree of languages also continues to grow. Then there will be one language. It is remembered: The history and geography of the world repeat. This does not sit in the intellects of humans. The Father is the One who changes the old world of sorrow and establishes the new world of happiness. It is written that deityism is established through Prajapita Brahma. This is the study of Raja Yoga. This knowledge, which is written in the Gita, is that which the Father spoke to you face to face. People have then rewritten that knowledge for the path of devotion, and this led to your descent. God is now teaching you to make you ascend. Devotion is called the path of descending. Knowledge is the path for ascending. Do not be afraid to explain this. Even though some people may oppose and argue with you because they do not understand, you should not argue with anyone. Tell them that the scriptures, the Vedas, the Upanishads, bathing in the Ganges and going on pilgrimages are all the paraphernalia of the path of devotion. Ravan truly exists in Bharat and that is why they burn his effigy. Generally, an effigy of an enemy is burnt for a temporary period, but only the effigy of Ravan is burnt every year. The Father says: Your intellects have become iron aged from golden aged. You were so happy! The Father has come to establish the land of happiness. Later, when the path of devotion begins, you experience sorrow. At that time, you remember the Bestower of Happiness, but that, too, is just in name because you do not know Him. They have changed the name in the Gita. First of all, you should explain that there is only the one God, the Highest on High, and that it is He who should be remembered. It is the remembrance of only One that is known as unadulterated remembrance and unadulterated knowledge. You do not perform any devotion now as you have become Brahmins; you have knowledge. We become deities through the study that the Father teaches us. Divine virtues also have to be imbibed and that is why Baba says: Keep your chart so that you can know whether you have any devilish traits in you. Body consciousness is the first defect. The next enemy is lust. By conquering lust you will become the conquerors of the world. This is your aim. There aren’t innumerable religions in the kingdom of Lakshmi and Narayan. In the golden age it is only the kingdom of deities. Human beings exist in the iron age. They (deities) are also human beings, but they have divine virtues. At this time, all human beings have devilish traits. Lust, the greatest enemy, does not exist in the golden age. The Father says: By conquering this great enemy of lust you will become the conquerors of the world. Ravan does not exist there. Even this cannot be understood by human beings. The intellect has become tamopradhan while descending from the golden age. You now have to become satopradhan again. You only receive one medicine for this. The Father says: Consider yourself to be a soul and remember the Father and your sins of many births will be absolved. Since you are sitting here to have your sins absolved, you shouldn’t commit any further sin. Otherwise it will become one hundredfold. If you indulge in vice, you will receive one hundredfold punishment and you will then barely be able to climb up. The number one enemy is lust. If you fall from the fifth floor, your bones would be completely broken. Perhaps you would even die. You are completely crushed when you fall from up above. If you break your promise to the Father and become ugly, you go back to the devilish world. That means you have died from here. Such a soul would not even be called a Brahmin but a shudra. Baba explains in such an easy way. First of all you should have this intoxication. For instance, if there were versions spoken by Krishna, he would also have taught others and made them the same as himself. However, Krishna cannot be God. He takes re-birth. The Father says: I alone am free from re-birth. It is all the same whether you say Radhe and Krishna or Lakshmi and Narayan or Vishnu. The two forms of Vishnu are Lakshmi and Narayan, and in their childhood they are Radhe and Krishna. The secret of Brahma has also been explained. Brahma and Saraswati become Narayan and Lakshmi. They are now being transferred. This one’s name at the end is kept as Brahma, but see how Brahma is now standing completely in the iron age. He does tapasya here in order to become Krishna or Shri Narayan. When you say Vishnu, both are included in that. Saraswati is the daughter of Brahma. No one can understand this. Brahma is shown with four arms because this is the family path. Those on the path of isolation cannot give this knowledge. They trap many people from abroad by telling them that they will teach them ancient Raja Yoga. However, sannyasis cannot teach Raja Yoga. God has now come. You, His children, have now become part of the Godly community. God has come to teach you. He is teaching you Raja Yoga. He is incorporeal. He has made you belong to Him through Brahma. You call out to Him “Baba, Baba!” Brahma is just an interpreter in between. He is "The Lucky Chariot". Baba teaches you through him. You also become pure from impure. The Father teaches you in order to change you from human beings into deities. It is now the kingdom of Ravan, the devilish community. You now belong to the Godly community and you will then belong to the deity community. You are now at the elevated confluence age and are becoming pure. Sannyasis leave their households. Here, the Father says: Husband and wife may stay together at home. Don’t think that a woman is a serpent and that you will become free by leaving her. You mustn’t run away. Their running away is limited renunciation. You are sitting here, but you have disinterest in this vicious world. You have to imbibe all of these aspects very well, note them down and also take precautions. Imbibe divine virtues too. There is praise of the virtues of Shri Krishna. That is your aim and objective. The Father does not become that, but He makes you become that. After half a cycle, you climb down and become tamopradhan. I do not become tamopradhan, but this one becomes that. This one has taken 84 births. He now has to become satopradhan; he too is an effort-maker. The new world is said to be satopradhan. Everything is originally satopradhan and it then goes through the stages of sato, rajo and tamo. A young child is also called a great soul. He does not have any vices in him and he is therefore called a flower. A young child is said to be more elevated than a sannyasi because a sannyasi has already experienced life. They have the experience of the five vices. A child is unaware of the vices. This is why there is happiness on seeing a child, a living flower. We belong to the family path. You children now have to go from the old world to the new world. All of you are making effort to go to the land of immortality. You are being transferred from the land of death. In order to become deities you now have to make effort. The children of Prajapita Brahma are brothers and sisters. You were brothers and sisters. What is the relationship between the children of Prajapita Brahma? Prajapita Brahma is remembered. How can the world be created until you become a child of Prajapita Brahma? All are the spiritual children of Prajapita Brahma. Those brahmins are on a physical pilgrimage whereas you are on a spiritual pilgrimage. They are impure and you are pure. You understand that they are not the children of Prajapita Brahma. Only when they consider themselves to be brothers and sisters will they not indulge in vice. The Father says: Be careful not to perform any criminal acts after becoming My child. Otherwise, you will become one with a stone intellect. There is a story about the Court of Indra. An angel brought a shudra into the gathering and there was a bad odour. She was questioned as to why she had brought an impure person there. She was then cursed. In fact, no impure person can come into this gathering. Whether the Father is aware or not, they cause themselves a loss; they incur one hundredfold punishment. Impure ones are not allowed here. A visiting room is suitable for them. Only when they make a promise to become pure and imbibe divine virtues will they be allowed. It takes time to imbibe divine virtues. There is only one promise: to become pure. It has also been explained that the praise of the Supreme is different from that of the deities. Only the Father is the Purifier, the Liberator and the Guide. He liberates us from all sorrow and takes us back to the land of peace. The cycle is made up of the land of peace, the land of happiness and the land of sorrow. You now have to forget the land of sorrow. Only those who pass numberwise will be able to go to the land of happiness from the land of peace. They will continue to come down; the cycle continues to turn. There are very many souls and each soul has his own part, numberwise. Souls will return numberwise as well. That is called Shiv Baba’s genealogical tree or the rosary of Rudra. Souls will return numberwise and come back numberwise. Other religions also go through the same process. It is explained to the children every day: If you do not study at school every day and don’t listen to the murli, you will be marked absent. You definitely need the lift of study. You should not be absent from the Godly university. This study, through which you become the masters of the land of happiness, is so elevated. There, all grains are free; they don’t cost anything. At present they are so expensive. Within a span of 100 years it has become so expensive. There, there is nothing that is unavailable or difficult to obtain. That is the land of happiness. You are getting ready to go there. From a beggar you are becoming a prince. Wealthy people do not consider themselves to be beggars. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.
Essence for Dharna:
1. You should not break the promise to become completely pure that you made to the Father. You have to take a lot of precautions. Examine your chart to see whether you have any devilish traits.
2. You should not be absent from the Godly university. Do not miss the elevated study of becoming the masters of the land of happiness for even one day. Definitely listen to the murli every day.
May you be an image of support and upliftment and make others virtuous with your virtues on the basis of your speciality of generosity.  
To have a generous heart means to have generosity and a big heart in every task. To be co- operative in making others virtuous with your own virtues, to be co-operative in filling souls with power and specialities, means to be a great donor with a generous heart which is the speciality of a generous soul. Souls who are filled with such speciality receive the blessing of success in being the image of support and upliftment because to be a support for service means to be an instrument for the upliftment of the self and others.
Let the self and the Father remain combined in such a way that no third person can separate you.  

मुरली 01 दिसंबर 2015

01-12-15 प्रातः मुरली ओम् शान्ति “बापदादा” मधुबन

“मीठे बच्चे - तुम्हारे दु:ख के दिन अब पूरे हुए, तुम अब ऐसी दुनिया में जा रहे हो जहाँ कोई भी अप्राप्त वस्तु नहीं”  
किन दो शब्दों का राज़ तुम्हारी बुद्धि में होने कारण पुरानी दुनिया से बेहद का वैराग्य रहता है?
उतरती कला और चढ़ती कला का राज़ तुम्हारी बुद्धि में है। तुम जानते हो आधाकल्प हम उतरते आये, अभी है चढ़ने का समय। बाप आये हैं नर से नारायण बनाने की सत्य नॉलेज देने। हमारे लिए अब कलियुग पूरा हुआ, नई दुनिया में जाना है इसलिए इससे बेहद का वैराग्य है।
धीरज धर मनुवा........  
ओम् शान्ति।
मीठे-मीठे रूहानी बच्चों ने गीत सुना। रूहानी बाप बैठ समझाते हैं - यह एक ही पुरूषोत्तम संगमयुग है जबकि कल्प-कल्प बाप आकर रूहानी बच्चों को पढ़ाते हैं। राजयोग सिखलाते हैं। बाप रूहानी बच्चों को कहते हैं मनुवा अर्थात् आत्मा, हे आत्मा धीरज धरो। आत्माओं से बात करते हैं। इस शरीर का मालिक आत्मा है। आत्मा कहती है - मैं अविनाशी आत्मा हूँ, यह मेरा शरीर विनाशी है। रूहानी बाप कहते हैं - मैं एक ही बार कल्प के संगम पर आकर तुम बच्चों को धीरज देता हूँ कि अब सुख के दिन आते हैं। अभी तुम दु:खधाम रौरव नर्क में हो। सिर्फ तुम नहीं हो परन्तु सारी दुनिया रौरव नर्क में है, तुम जो मेरे बच्चे बने हो, रौरव नर्क से निकलकर स्वर्ग में चल रहे हो। सतयुग, त्रेता, द्वापर पास हो गया। कलियुग भी तुम्हारे लिए पास हो गया। तुम्हारे लिए यह पुरूषोत्तम संगमयुग है जबकि तुम तमोप्रधान से सतोप्रधान बनते हो। आत्मा जब सतोप्रधान बन जायेगी तो फिर यह शरीर भी छोड़ेगी। सतोप्रधान आत्मा को सतयुग में नया शरीर चाहिए। वहाँ सब कुछ नया होता है। बाप कहते हैं बच्चे अब दु:खधाम से सुखधाम में चलना है, उसके लिए पुरूषार्थ करना है। सुखधाम में इन लक्ष्मी-नारायण की राजाई थी। तुम पुरूषार्थ कर रहे हो नर से नारायण बनने का। यह सत्य नर से नारायण बनने की नॉलेज है। भक्ति मार्ग में हर पूर्णमासी पर कथा सुनते आये हो, परन्तु वह है ही भक्ति मार्ग। उसे सत्य मार्ग नहीं कहेंगे, ज्ञान मार्ग है सत्य मार्ग। तुम सीढ़ी उतरते-उतरते झूठ खण्ड में आते हो। अभी तुम जानते हो सत्य बाप से हम यह नॉलेज पाकर 21 जन्म देवी-देवता बनेंगे। हम थे, फिर सीढ़ी उतरते आये। उतरती कला और चढ़ती कला का राज़ तुम्हारी बुद्धि में है। पुकारते भी हैं हे बाबा आकर हमको पावन बनाओ। एक बाप ही पावन बनाने वाला है। बाप कहते हैं-बच्चे, तुम सतयुग में विश्व के मालिक थे। बहुत धनवान, बहुत सुखी थे। अभी बाकी थोड़ा समय है। पुरानी दुनिया का विनाश सामने खड़ा है। नई दुनिया में एक राज्य, एक भाषा थी। उसको कहा जाता है अद्वैत राज्य। अभी कितना द्वैत है, अनेक भाषायें हैं। जैसे मनुष्यों का झाड़ बढ़ता जाता है, भाषाओं का भी झाड़ वृद्धि को पाता जाता है। फिर होगी एक भाषा। गायन है ना वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी रिपीट। मनुष्यों की बुद्धि में नहीं बैठता। बाप ही दु:ख की पुरानी दुनिया को बदल सुख की नई दुनिया स्थापन करते हैं। लिखा हुआ है प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा डिटीज्म की स्थापना। यह है राजयोग की पढ़ाई। यह ज्ञान जो गीता में लिखा हुआ है, बाप ने जो सम्मुख सुनाया वह फिर मनुष्यों ने भक्ति मार्ग के लिए बैठ लिखा है, जिससे तुम उतरते आये हो। अभी भगवान तुमको पढ़ाते हैं ऊपर चढ़ने के लिए। भक्ति को कहा ही जाता है उतरती कला का मार्ग। ज्ञान है चढ़ती कला का मार्ग। यह समझाने में तुम डरो मत। भल ऐसे भी हैं जो इन बातों को न समझने कारण विरोध करेंगे, शास्त्रवाद करेंगे। परन्तु तुमको कोई से शास्त्रवाद नहीं करना है। बोलो शास्त्र, वेद, उपनिषद वा गंगा स्नान करना, तीर्थ आदि करना यह सब भक्ति काण्ड है। भारत में रावण भी है बरोबर, जिसकी एफीजी जलाते हैं। वैसे तो दुश्मनों की एफीजी जलाते हैं, अल्पकाल के लिए। यह इस एक रावण की ही एफीज़ी हर वर्ष जलाते आते हैं। बाप कहते हैं तुम गोल्डन एजेड बुद्धि से आइरन एजेड बुद्धि हो गये हो। तुम कितने सुखी थे। बाप आते ही हैं सुखधाम की स्थापना करने। फिर बाद में जब भक्ति मार्ग शुरू होता है तो दु:खी बनते हैं। फिर सुखदाता को याद करते हैं, वह भी नाम मात्र क्योंकि उनको जानते नहीं। गीता में नाम बदल दिया है। पहले-पहले तुम यह समझाओ कि ऊंच ते ऊंच भगवान एक है, याद भी उनको करना चाहिए। एक को याद करना उसको ही अव्यभिचारी याद, अव्यभिचारी ज्ञान कहा जाता है। तुम अभी ब्राह्मण बने हो तो भक्ति नहीं करते हो। तुमको ज्ञान है। बाप पढ़ाते हैं जिससे हम यह देवता बनते हैं। दैवीगुण भी धारण करने हैं इसलिए बाबा कहते हैं अपना चार्ट रखो तो मालूम पड़ेगा हमारे में कोई आसुरी गुण तो नहीं हैं। देह-अभिमान है पहला अवगुण फिर दुश्मन है काम। काम पर जीत पाने से ही तुम जगतजीत बनेंगे। तुम्हारा उद्देश्य ही यह है, इन लक्ष्मी- नारायण के राज्य में कोई अनेक धर्म थे नहीं। सतयुग में देवताओं का ही राज्य होता है। मनुष्य होते हैं कलियुग में। हैं भल वह भी मनुष्य, परन्तु दैवीगुणों वाले। इस समय सब मनुष्य हैं आसुरी गुणों वाले। सतयुग में काम महाशत्रु होता नहीं। बाप कहते हैं इस काम महाशत्रु पर जीत पाने से तुम जगतजीत बनेंगे। वहाँ रावण होता नहीं। यह भी मनुष्य समझ नहीं सकते। गोल्डन एज से उतरते-उतरते तमोप्रधान बुद्धि बने हैं। अब फिर सतोप्रधान बनना है। उसके लिए एक ही दवाई मिलती है - बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो तो जन्म-जन्मान्तर के पाप भस्म हो जायेंगे। तुम बैठे हो पापों को भस्म करने तो फिर आगे पाप नहीं करना चाहिए। नहीं तो वह सौ गुणा बन जायेगा। विकार में गये तो सौ गुणा दण्ड पड़ जायेगा, फिर वह मुश्किल चढ़ सकते हैं। पहला नम्बर दुश्मन है यह काम। 5 मंजिल से गिरेंगे तो हडगुड एकदम टूट जायेंगी। शायद मर भी जायें। ऊपर से गिरने से एकदम चकनाचूर हो जाते हैं। बाप से प्रतिज्ञा तोड़ काला मुंह किया तो गोया आसुरी दुनिया में चला गया। यहाँ से मर गया। उनको ब्राह्मण भी नहीं, शूद्र कहा जायेगा।

बाप कितना सहज समझाते हैं। पहले तो यह नशा रहना चाहिए। अगर समझो कृष्ण भगवानुवाच भी हो, वह भी तो जरूर पढ़ा करके आपसमान बनायेंगे ना। परन्तु कृष्ण तो भगवान हो न सके। वह तो पुनर्जन्म में आते हैं। बाप कहते हैं मैं ही पुनर्जन्म रहित हूँ। राधे-कृष्ण, लक्ष्मी-नारायण अथवा विष्णु एक ही बात है। विष्णु के दो रूप लक्ष्मी-नारायण और लक्ष्मी-नारायण का ही बचपन है राधे-कृष्ण। ब्रह्मा का भी राज़ समझाया है - ब्रह्मा-सरस्वती सो लक्ष्मी-नारायण। अब ट्रांसफर होते हैं। पिछाड़ी का नाम इनका ब्रह्मा रखा है। बाकी यह ब्रह्मा तो देखो एकदम आइरन एज में खड़ा है। यही फिर तपस्या कर कृष्ण वा श्री नारायण बनते हैं। विष्णु कहने से उसमें दोनों आ जाते हैं। ब्रह्मा की बेटी सरस्वती। यह बातें कोई समझ न सकें। 4 भुजा ब्रह्मा को भी देते हैं क्योंकि प्रवृत्ति मार्ग है ना। निवृत्ति मार्ग वाले यह ज्ञान दे नहीं सकते। बहुतों को बाहर से फंसा कर ले आते हैं कि चलो हम प्राचीन राजयोग सिखलायें। अब सन्यासी राजयोग सिखला न सकें। अब ईश्वर आये हैं, तुम अब उनके बच्चे ईश्वरीय सम्प्रदाय बने हो। ईश्वर आये हैं तुमको पढ़ाने। तुमको राजयोग सिखला रहे हैं। वह तो है निराकार। ब्रह्मा द्वारा तुमको अपना बनाया है। बाबा-बाबा तुम उनको कहते हो, ब्रह्मा तो बीच में इन्टरप्रेटर है। भाग्यशाली रथ है। इस द्वारा बाबा तुमको पढ़ाते हैं। तुम भी पतित से पावन बनते हो। बाप पढ़ाते हैं - मनुष्य से देवता बनाने। अभी तो रावण राज्य, आसुरी सम्प्रदाय है ना। अभी तुम ईश्वरीय सम्प्रदाय बने हो फिर दैवी सम्प्रदाय बनेंगे। अभी तुम पुरूषोत्तम संगमयुग पर हो, पावन बन रहे हो। सन्यासी लोग तो घरबार छोड़ जाते हैं। यहाँ बाप तो कहते हैं - भल स्त्री-पुरूष घर में इकट्ठे रहो, ऐसे मत समझो स्त्री नागिन है इसलिए हम अलग हो जायें तो छूट जायेंगे। तुमको भागना नहीं है। वह हद का सन्यास है जो भागते हैं, तुम यहाँ बैठे हो परन्तु तुमको इस विकारी दुनिया से वैराग्य है। यह सब बातें तुम्हें अच्छी रीति धारण करनी है, नोट करना है और परहेज भी रखनी है। दैवीगुण धारण करने हैं। श्रीकृष्ण के गुण गाये जाते हैं ना। यह तुम्हारी एम आब्जेक्ट है। बाप नहीं बनते, तुमको बनाते हैं। फिर आधाकल्प के बाद तुम नीचे उतरते, तमोप्रधान बनते हो। मैं नहीं बनता हूँ, यह बनते हैं। 84 जन्म भी इसने लिए हैं। इनको भी अभी सतोप्रधान बनना है, यह पुरुषार्थी है। नई दुनिया को सतोप्रधान कहेंगे। हर एक ची॰ज पहले सतोप्रधान फिर सतो-रजो-तमो में आती है। छोटे बच्चे को भी महात्मा कहा जाता है क्योंकि उनमें विकार होते नहीं, इसलिए उनको फूल कहा जाता है। सन्यासियों से छोटे बच्चों को उत्तम कहेंगे क्योंकि सन्यासी तो फिर भी लाइफ पास कर आते हैं ना। 5 विकारों का अनुभव है। बच्चों को तो पता नहीं रहता इसलिए बच्चों को देख खुशी होती है, चैतन्य फूल हैं। अपना तो है ही प्रवृत्ति मार्ग।

अभी तुम बच्चों को इस पुरानी दुनिया से नई दुनिया में जाना है। अमरलोक में चलने के लिए तुम सब पुरूषार्थ करते हो, मृत्युलोक से ट्रांसफर होते हो। देवता बनना है तो उसके लिए अब मेहनत करनी पड़े, प्रजापिता ब्रह्मा के बच्चे भाई-बहन हो जाते हैं। भाई-बहन तो थे ना। प्रजापिता ब्रह्मा की औलाद आपस में क्या ठहरे? प्रजापिता ब्रह्मा गाया जाता है। जब तक प्रजापिता का बच्चा न बनें, सृष्टि की रचना कैसे हो? प्रजापिता ब्रह्मा के हैं सब रूहानी बच्चे। वह ब्राह्मण होते हैं जिस्मानी यात्रा वाले। तुम हो रूहानी यात्रा वाले। वह पतित, तुम पावन। वह कोई प्रजापिता की सन्तान नहीं हैं, यह तुम समझते हो। भाई-बहन जब समझें तक विकार में न जायें। बाप भी कहते हैं खबरदार रहना, हमारा बच्चा बनकर कोई क्रिमिनल काम नहीं करना, नहीं तो पत्थरबुद्धि बन जायेंगे। इन्द्र सभा की कहानी भी है। शूद्र को ले आई तो इन्द्र सभा में उनकी बदबू आने लगी। तो बोला पतित को यहाँ क्यों लाया है। फिर उनको श्राप दे दिया। वास्तव में इस सभा में भी कोई पतित आ नहीं सकते। भल बाप को मालूम पड़े वा न पड़े, यह तो अपना ही नुकसान करते हैं, और ही सौगुणा दण्ड पड़ जाता है। पतित को एलाउ नहीं है। उन्हों के लिए विजिटिंग रूम ठीक है। जब पावन बनने की गैरन्टी करे, दैवीगुण धारण करे तब एलाउ हो। दैवीगुण धारण करने में टाइम लगता है। पावन बनने की एक ही प्रतिज्ञा है।

यह भी समझाया है, देवताओं की और परमात्मा की महिमा अलग-अलग है। पतित-पावन, लिबरेटर, गाइड बाप ही है। सब दु:खों से लिबरेट कर अपने शान्तिधाम में ले जाते हैं। शान्तिधाम, सुखधाम और दु:खधाम यह भी चक्र है। अभी दु:खधाम को भूल जाना है। शान्तिधाम से सुखधाम में वो आयेंगे जो नम्बरवार पास होंगे, वही आते रहेंगे। यह चक्र फिरता रहता है। ढेर की ढेर आत्मायें हैं, सबका पार्ट नम्बरवार है। जायेंगे भी नम्बरवार। उनको कहा जाता है शिवबाबा का सिजरा अथवा रूद्र माला। नम्बरवार जाते हैं फिर नम्बरवार आते हैं। दूसरे धर्म वालों का भी ऐसा होता है। बच्चों को रोज़ समझाया जाता है, स्कूल में रोज़ नहीं पढ़ेंगे, मुरली नहीं सुनेंगे तो फिर अबसेन्ट हो जायेंगे। पढ़ाई की लिफ्ट तो जरूर चाहिए। गॉडली युनिवर्सिटी में अबसेन्ट थोड़ेही होनी चाहिए। पढ़ाई कितनी ऊंच है, जिससे तुम सुखधाम के मालिक बनते हो। वहाँ तो अनाज सब फ़्री रहता है, पैसा नहीं लगता। अभी तो कितना मंहगा है। 100 वर्ष में कितना महंगा हो गया है। वहाँ कोई अप्राप्त वस्तु नहीं होती जिसके लिए मुश्किलात आये। वह है ही सुखधाम। तुम अभी वहाँ के लिए तैयारी कर रहे हो। तुम बेगर टू प्रिन्स बनते हो। साहूकार लोग अपने को बेगर नहीं समझते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।
धारणा के लिए मुख्य सार:
1) बाप से जो सम्पूर्ण पावन बनने की प्रतिज्ञा की है, इसे तोड़ना नहीं है। बहुत-बहुत परहेज रखनी है। अपना चार्ट देखना है-हमारे में कोई अवगुण तो नहीं है?
2) गॉडली युनिवर्सिटी में कभी भी अबसेन्ट नहीं होना है। सुखधाम का मालिक बनने की ऊंची पढ़ाई एक दिन भी मिस नहीं करनी है। मुरली रोज़ जरूर सुननी है।
उदारचित की विशेषता द्वारा अपने गुणों से दूसरों को गुणवान बनाने वाले आधार और उद्धारमूर्त भव!   
उदारचित अर्थात् सदा हर कार्य में फ्राखदिल बड़ी दिल वाले। अपने गुण से दूसरे को गुणवान बनाने में सहयोगी बनना, शक्ति वा विशेषता भरने में सहयोगी बनना अर्थात् महादानी फ्राखदिल बनना ही उदारचित आत्मा की विशेषता है, ऐसी विशेषता सम्पन्न आत्मायें ही आधार और उद्धारमूर्त बनने में सफलता का वरदान प्राप्त करती हैं क्योंकि सेवा के आधार स्वरूप बनना अर्थात् स्व और सर्व के उद्धार के निमित्त बन जाना।
“आप और बाप” दोनों ऐसा कम्बाइंड रहो जो तीसरा कोई अलग कर न सके।   

Sunday, November 29, 2015

Murli 30 November 2015

30/11/15 Morning Murli Om Shanti BapDada Madhuban

Sweet children, you are now on Godly service. You have to show everyone the path to happiness and make effort to win a scholarship.   
Which fear is removed from you children when your intellects imbibe knowledge very well?
When you come into knowledge and you imbibe this knowledge, the fear of your guru of the path of devotion cursing you is removed because no one on the path of knowledge can curse you. Ravan curses you whereas the Father gives you an inheritance. Those who study occult power trouble others and do things that cause others sorrow. On the path of knowledge you children give happiness to everyone.
Om Shanti
The spiritual Father sits here and explains to you sweetest spiritual children that, first of all, all of you are souls. You have to have this firm faith. You children understand that you are souls who come from the supreme abode and adopt bodies to play your parts. It is the soul that plays a part. Human beings think that it is the body that plays a part. This is the biggest mistake. This is why no one knows the soul. They have forgotten how we souls come and go around the cycle. This is why the Father has to come and make you soul conscious. No one knows these things. Only the Father explains how souls play their parts. Human beings take the maximum of 84 births and the minimum of one or two births. Souls have to continue to take rebirth. This proves that those who have many births also take many rebirths. Those who take fewer births have fewer rebirths. In a play, too, some perform a part from the beginning to the end, whereas others only play a small part. Human beings don't know this. Souls don't know themselves, so how can they know the Father? All of this applies to the soul. The Father is the Father of souls. Krishna cannot be the Father of souls. Krishna cannot be called the Incorporeal. He can only be recognized in a corporeal form. There is a soul in every being. A part is recorded in every soul. Among you too, those of you who can explain these things are numberwise, according to your efforts. You children now understand how you souls have taken 84 births. It isn't that each soul is the Supreme Soul, no. The Father has explained how we souls become deities first. At present we are impure and tamopradhan and we have to become pure and satopradhan. The Father comes when the world becomes old. The Father comes to make the old world new. He establishes the new world. There is the original, eternal, deity religion in the new world. It is of them you say that they previously belonged to the iron-aged, shudra religion. You have now become Brahmins, the mouth-born creation of Prajapita Brahma. You have come into the Brahmin clan. There is no dynasty of the Brahmin clan. The Brahmin clan does not rule a kingdom. At this time, neither the Brahmin clan nor the shudra clan has a kingdom in Bharat. Neither of them has a kingdom. There is now government of the people by the people. You Brahmins do not have a kingdom. You are students who are studying. The Father only explains to you how the cycle of 84 births turns. There are the golden, silver, copper, and iron ages and then this confluence age. No other age has the praise that the confluence age has. This is the most elevated confluence age. When you go from the golden age to the silver age, two degrees are reduced, so how could you praise that? You don’t praise a descent. The iron age is called the old world. The new world, where there will be the kingdom of deities, is now to be established. They are the most elevated beings. Then, gradually, as their degrees decrease, they become degraded; they become those with shudra intellect. They are also called those with stone intellects. Their intellects become so stone-like that they don't even know the life stories of those whom they worship. If children don't know their Father’s life story how could they receive an inheritance from Him? You children now know the life story of the Father. You are receiving an inheritance from Him. You remember the unlimited Father. It is sung, "You are the Mother and Father, and we receive unlimited happiness from You." Therefore, the Father must definitely have come and given you plenty of happiness. The Father says: I come and give you children limitless happiness. This knowledge should remain in the intellects of you children very well. This is why you become spinners of the discus of self-realization. You have now received the third eye of knowledge. You know that you are becoming deities once again. You have now become Brahmins from shudras. Iron-aged brahmins also exist, do they not? Because those brahmins are iron-aged they don't know when their religion and clan were established. You have now become the direct children of Prajapita Brahma and you belong to the highest clan. The Father sits here and does the service of educating you, taking care of you and decorating you. You are also on Godly service only. God, the Father, says: I have come on service of all of you children. I have to show you children the path of happiness. The Father says: Now return home! Human beings do devotion in order to receive liberation. They definitely have a life of bondage. The Father comes to liberate you from all of that sorrow. You children understand that there will be cries of distress. After the cries of distress there will be the cries of victory. It is now in your intellects how much distress there will be when the natural calamities take place. There are the Yadavas, the Europeans. The Father has explained that Europeans are called Yadavas. It has been portrayed how missiles emerged from the stomachs and how they gave a curse. However, there is no question of a curse. This is the drama. The Father gives an inheritance whereas Ravan curses you. The play has been created like this. There are human beings who give a curse. There are other people who remove curses. People are afraid of gurus etc. in case they become cursed by them. In fact, no one on the path of knowledge can curse you. There is no question of a curse on the path of knowledge or on the path of devotion. Those who study occult power give curses and cause people a lot of sorrow. They earn a lot of money in that way. Devotees do not do that work. Baba has also explained that you must definitely write the words "most auspicious” with the confluence age. You must also write the words "Trimurti" and "Prajapita" because many people have the name “Brahma”. When you write the word "Prajapita" they can understand that the Father of Humanity (Prajapita) has to exist in the corporeal form. When you only write "Brahma" they just consider him to be a resident of the subtle region. They call Brahma, Vishnu and Shankar, God. When you say "Prajapita" you can explain that Prajapita is here. How could he be in the subtle region? They show Vishnu emerging from the navel of Brahma. You children have received knowledge. There is no question of emerging from a navel. How does Brahma becomes Vishnu and how does Vishnu become Brahma? You can explain all the knowledge of the whole cycle using the pictures. It requires a lot of effort to explain without using the pictures. Brahma becomes Vishnu and Vishnu becomes Brahma. Lakshmi and Narayan go around the cycle of 84 births and then become Saraswati and Brahma. Baba gave you names earlier when the bhatthi was created. Then so many left. This is why it is said that a rosary of Brahmins cannot be created. Because they are effort-makers they continue to fluctuate; there are bad omens. Baba was a jeweller. He is experienced in how pearl necklaces etc. are created. The rosary of Brahmins is created at the end. We Brahmins imbibe divine virtues and become deities. Then we have to come down the ladder. Otherwise, how else would we take 84 births? You can calculate this according to the account of 84 births. When half of your time has ended, those of other religions are added. It requires a lot of effort to create a necklace. The pearls are placed on the table with great care so that they don't roll away. Then they are threaded with a needle. Sometimes, if the necklace isn't good enough, it has to be broken. This rosary is very big. You children understand that you are studying for the new world. Baba has explained that you should create slogans: Come and understand how we change from shudras to Brahmins and then into deities. By knowing this cycle you will become rulers of the globe. You will become the masters of the world. Create such slogans and teach the children. Baba shows you many methods. In fact, you have great value. You receive the parts of hero and heroine. You become like diamonds (hiro) and then go around the cycle and become worth shells. Now that you have received a birth as valuable as diamonds, why do you chase after shells? It isn't that you have to leave your home and family. Baba says: While living at home with your family, remain as pure as a lotus. Then, by understanding the knowledge of the world cycle and also by imbibing divine virtues you will become like diamonds. Truly, 5000 years ago Bharat was like a diamond. This picture is your aim and objective. You must give a lot of importance to this picture (of Lakshmi and Narayan). You children have to do a great deal of service at the exhibitions and museums. How can you create subjects without doing service at a fast speed? Although people listen to this knowledge, scarcely any claim a high status. It is of them that it is said: “A handful out of multimillions”. Only a few claim a scholarship. Out of 40 or 50 students in a school, perhaps one of them may win a scholarship. Some receive plus (higher) marks, and so they too win a scholarship. It is the same here. There are many who have plus marks. There are the eight beads, and they too are numberwise. They are the ones who will sit on the throne of the kingdom first of all. Then the degrees will gradually decrease. The picture of Lakshmi and Narayan is number one. There is their dynasty too, but only the picture of Lakshmi and Narayan (the first) is shown. Here, you understand that the pictures continue to be changed. What is the benefit of showing their pictures? The name, form, time and place all change. The spiritual Father sits here and explains to you sweetest spiritual children. The Father also explained this a cycle ago. It isn't that Krishna related the knowledge to the gopes and gopis. Krishna has no gopes or gopis nor are they given this knowledge; he is a prince of the golden age. How could he teach Raja Yoga there or purify the impure? You must now remember your Father. The Father is also the Teacher. Students can never forget their teacher. Children cannot forget their father or their guru. They have a father from birth. They receive a teacher after the age of five and when they reach the stage of retirement they adopt a guru. There is no benefit in adopting a guru at birth. They adopt a guru and might die the next day. So what would the guru do? It is even sung: You cannot receive salvation without the Satguru. However, they put the Satguru aside and adopt a guru. There are many gurus. Baba says: Children, you don't need to adopt any physical gurus. You mustn't ask anyone for anything. It is said: It is better to die than to ask for anything! Everyone is worried about how to transfer their money. They donate for their next birth in the name of God and receive a temporary return of that in this old world. Here, everything of yours is transferred to the new world for 21 births. You have to surrender your body, mind and wealth to God. That can only be done when He comes. No one knows God and so they catch hold of a guru. They offer their wealth etc. to their guru. When they don't have an heir, they give everything to their guru. Nowadays, no one gives anything regularly, even in the name of God. The Father explains: I am the Lord of the Poor and this is why I come into Bharat. I come and make you into the masters of the world. There is so much difference between doing something directly and doing something indirectly. They don't know anything, but simply say that they are surrendering in the name of God. All of that is meaningless. You children have now received understanding. Therefore, from senseless, you have become sensible. Your intellects know how the Father performs wonders. You would surely receive an unlimited inheritance from the unlimited Father. You receive an inheritance from the Father through Dada. Dada is also claiming an inheritance from Him. There is only the One who gives an inheritance. You must only remember Him. The Father says: Children, I come and enter this one in the last of his many births and purify him so that he then becomes an angel. You can do a lot of service using the badge. All your badges are very meaningful. This picture is one that gives you the donation of life. No one is aware of its value. Baba always likes big things so that anyone can read them clearly from a distance. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost, now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.
Essence for Dharna:
1. In order to claim an unlimited inheritance from the Father, become sensible and surrender your body, mind and wealth directly to the Father. Transfer everything you have for 21 births.
2. The Father is doing the service of educating you, taking care of you and decorating you. Therefore, do the same service that the Father is doing. Liberate everyone from their life of bondage and take them into a life of liberation.
May you be a great soul who makes your every action praise-worthy in the form of a divine activity.   
A great soul is one whose every thought and every action is great. Let not a single thought be ordinary or wasteful. Let no action be ordinary or without a purpose. Let whatever actions you perform through your physical senses be meaningful. Let your time continue to be used in a worthwhile way for a great task and only then will your every activity be praise-worthy. The memorial of great souls is being the embodiment of happiness, the image that attracts and the avyakt image.
Renounce the desire for respect and become stable in your self-respect and respect will follow you like a shadow.   

मुरली 30 नवंबर 2015

30-11-15 प्रातः मुरली ओम् शान्ति “बापदादा” मधुबन

“मीठे बच्चे - तुम अभी गॉडली सर्विस पर हो, तुम्हें सबको सुख का रास्ता बताना है, स्कालरशिप लेने का पुरूषार्थ करना है”   
तुम बच्चों की बुद्धि में जब ज्ञान की अच्छी धारणा हो जाती है तो कौन-सा डर निकल जाता है?
भक्ति में जो डर रहता कि गुरू हमें श्राप न दे देवे, यह डर ज्ञान में आने से, ज्ञान की धारणा करने से निकल जाता है क्योंकि ज्ञान मार्ग में श्राप कोई दे न सके। रावण श्राप देता है, बाप वर्सा देते हैं। रिद्धि-सिद्धि सीखने वाले ऐसा तंग करने का, दु:ख देने का काम करते हैं, ज्ञान में तो तुम बच्चे सबको सुख पहुँचाते हो।
ओम् शान्ति।
मीठे-मीठे रूहानी बच्चों प्रति रूहानी बाप बैठ समझाते हैं। तुम सब पहले आत्मा हो। यह पक्का निश्चय रखना है। बच्चे जानते हैं हम आत्मायें परमधाम से आती हैं, यहाँ शरीर लेकर पार्ट बजाने। आत्मा ही पार्ट बजाती है। मनुष्य फिर समझते शरीर ही पार्ट बजाते हैं। यह है बड़े ते बड़ी भूल। जिस कारण आत्मा को कोई जानते नहीं। इस आवागमन में हम आत्मायें आती-जाती हैं - इस बात को भूल जाते हैं इसलिए बाप को ही आकर आत्म-अभिमानी बनाना पड़ता है। यह बात भी कोई नहीं जानते। बाप ही समझाते हैं, आत्मा कैसे पार्ट बजाती है। मनुष्य के मैक्सीमम 84 जन्मों से लेकर मिनीमम है एक-दो जन्म। आत्मा को पुनर्जन्म तो लेते रहना है। इससे सिद्ध होता है, बहुत जन्म लेने वाला बहुत पुनर्जन्म लेते हैं। थोड़े जन्म लेने वाला कम पुनर्जन्म लेते हैं। जैसे नाटक में कोई का शुरू से पिछाड़ी तक पार्ट होता है, कोई का थोड़ा पार्ट होता है। यह कोई मनुष्य नहीं जानते। आत्मा अपने को ही नहीं जानती तो अपने बाप को कैसे जाने। आत्मा की बात है ना। बाप है आत्माओं का। कृष्ण तो आत्माओं का बाप है नहीं। कृष्ण को निराकार तो नहीं कहेंगे। साकार में ही उनको पहचाना जाता है। आत्मा तो सबकी है। हर एक आत्मा में पार्ट तो नूँधा हुआ है। यह बातें तुम्हारे में भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार हैं जो समझा सकते हैं। अभी तुम बच्चे जानते हो हम आत्माओं ने 84 जन्म कैसे लिए हैं। ऐसे नहीं कि आत्मा सो परमात्मा। नहीं, बाप ने समझाया है - हम आत्मा पहले सो देवता बनते हैं। अभी पतित तमोप्रधान हैं फिर सतोप्रधान पावन बनना है। बाप आते ही तब हैं जब सृष्टि पुरानी हो जाती है। बाप आकर पुरानी को नया बनाते हैं। नई सृष्टि स्थापन करते हैं। नई दुनिया में है ही आदि सनातन देवी-देवता धर्म। उन्हों के लिए ही कहेंगे पहले कलियुगी शूद्र धर्म वाले थे। अब प्रजापिता ब्रह्मा के मुख वंशावली बन ब्राह्मण बने हो। ब्राह्मण कुल में आते हो। ब्राह्मण कुल की डिनायस्टी नहीं होती। ब्राह्मण कुल कोई राजाई नहीं करते हैं। इस समय भारत में न ब्राह्मण कुल राजाई करते हैं, न शूद्र कुल राजाई करते हैं। दोनों को राजाई नहीं हैं। फिर भी उनका प्रजा पर प्रजा का राज्य तो चलता है। तुम ब्राह्मणों का कोई राज्य नहीं है। तुम स्टूडेण्ट पढ़ते हो। बाप तुमको ही समझाते हैं। यह 84 का चक्र कैसे फिरता है। सतयुग, त्रेता..... फिर होता है संगमयुग। इस संगमयुग जैसी महिमा और कोई युग की है नहीं। यह है पुरूषोत्तम संगमयुग। सतयुग से त्रेता में आते हैं, दो कला कम होती हैं तो उनकी महिमा क्या करेंगे! गिरने की महिमा थोड़ेही होती है। कलियुग को कहा जाता है पुरानी दुनिया। अब नई दुनिया स्थापन होनी है, जहाँ देवी-देवताओं का राज्य होता है। वह पुरूषोत्तम थे। फिर कला कम होते-होते कनिष्ट, शूद्र बुद्धि बन जाते हैं। उनको पत्थरबुद्धि भी कहा जाता है। ऐसे पत्थरबुद्धि बन जाते हैं जो जिनकी पूजा करते हैं, उनकी जीवन कहानी को भी नहीं जानते। बच्चे बाप का जीवन न जानें तो वर्सा कैसे मिले। अभी तुम बच्चे बाप के जीवन को जानते हो। उनसे तुमको वर्सा मिल रहा है। बेहद के बाप को याद करते हो। तुम मात-पिता..... कहते हो तो जरूर बाप आया होगा तब तो सुख घनेरे दिये होंगे ना। बाप कहते हैं - मैं आया हूँ, अथाह सुख तुम बच्चों को देता हूँ। बच्चों की बुद्धि में यह नॉलेज अच्छी रीति रहनी चाहिए, इसलिए तुम स्वदर्शन चक्रधारी बनते हो। तुमको अब ज्ञान का तीसरा नेत्र मिला है। तुम जानते हो हम सो देवता बनते हैं। अब शूद्र से ब्राह्मण बने हैं। कलियुगी ब्राह्मण भी हैं तो सही ना। वो ब्राह्मण लोग जानते नहीं कि हमारा धर्म अथवा कुल कब स्थापन हुआ क्योंकि वह हैं ही कलियुगी। तुम अभी डायरेक्ट प्रजापिता ब्रह्मा की सन्तान बने हो और सबसे ऊंच कोटि के हो। बाप बैठ तुम्हारी पढ़ाई की सर्विस, सम्भालने की सर्विस और श्रृंगारने की सर्विस करते हैं। तुम भी हो ऑन गॉडली सर्विस ओनली। गॉड फादर भी कहते हैं - हम आये हैं सब बच्चों की सर्विस में। बच्चों को सुख का रास्ता बताना है। बाप कहते हैं अब घर चलो। मुनष्य भक्ति भी करते हैं मुक्ति के लिए। जरूर जीवन में बन्धन है। बाप आकर इन दु:खों से छुड़ाते हैं। तुम बच्चे जानते हो त्राहि-त्राहि करेंगे। हाहाकार के बाद जयजयकार होनी है। अब तुम्हारी बुद्धि में है - कितनी हाय-हाय करेंगे, जब नैचुरल कैलेमिटीज आदि होगी। यूरोपवासी यादव भी हैं, बाप ने समझाया है - यूरोपवासियों को यादव कहा जाता है। दिखाते हैं पेट से मूसल निकले फिर श्राप दिया। अब श्राप आदि की तो बात ही नहीं। यह तो ड्रामा है। बाप वर्सा देते हैं, रावण श्राप देते हैं। यह एक खेल बना है, बाकी श्राप देने वाले तो दूसरे मनुष्य होते हैं। उस श्राप को उतारने वाले भी होते हैं। गुरू गोसाई आदि से भी मनुष्य लोग डरते हैं कि कोई श्राप न देवे। वास्तव में ज्ञान मार्ग में श्राप कोई दे न सके। ज्ञान मार्ग और भक्ति मार्ग में श्राप की कोई बात नहीं। जो रिद्धि-सिद्धि आदि सीखते हैं, वो श्राप देते हैं, लोगों को बहुत दु:खी कर देते हैं, पैसे भी बहुत कमाते हैं। भक्त लोग यह काम नहीं करते।

बाबा ने यह भी समझाया है - संगम के साथ पुरूषोत्तम अक्षर जरूर लिखो। त्रिमूर्ति अक्षर भी जरूर लिखना है और प्रजापिता अक्षर भी जरूरी है क्योंकि ब्रह्मा नाम भी बहुतों के हैं। प्रजापिता अक्षर लिखेंगे तो समझेंगे साकार में प्रजापिता ठहरा। सिर्फ ब्रह्मा लिखने से सूक्ष्मवतन वाला समझ लेते हैं। ब्रह्मा-विष्णु-शंकर को भगवान कह देते हैं। प्रजापिता कहेंगे तो समझा सकते हो - प्रजापिता तो यहाँ है। सूक्ष्मवतन में कैसे हो सकता। विष्णु को तो दिखाते हैं ब्रह्मा की नाभी से निकला। तुम बच्चों को भी ज्ञान मिला है। नाभी आदि की कोई बात ही नहीं। ब्रह्मा सो विष्णु, विष्णु सो ब्रह्मा कैसे बनते हैं। सारे चक्र का ज्ञान तुम इन चित्रों से समझा सकते हो। बिगर चित्र समझाने में मेहनत लगती है। ब्रह्मा सो विष्णु, विष्णु सो ब्रह्मा बनते हैं। लक्ष्मी-नारायण 84 का चक्र लगाकर फिर ब्रह्मा-सरस्वती बनते हैं। बाबा ने पहले से नाम दे दिये हैं, जब भट्ठी बनी तो नाम दिये। फिर कितने चले गये इसलिए समझाया है ब्राह्मणों की माला होती नहीं क्योंकि ब्राह्मण हैं पुरुषार्थी। कभी नीचे, कभी ऊपर होते रहते हैं। ग्रहचारी बैठती है। बाबा तो जवाहरी था। मोतियों आदि की माला कैसे बनती है, अनुभवी है। ब्राह्मणों की माला पिछाड़ी में बनती है। हम सो ब्राह्मण दैवी गुण धारण कर देवता बनते हैं। फिर सीढ़ी उतरनी है। नहीं तो 84 जन्म कैसे लेंगे। 84 जन्मों के हिसाब से यह निकल सकते हैं। तुम्हारा आधा समय पूरा होता है तब दूसरे धर्म वाले एड होते हैं। माला बनाने में बड़ी मेहनत लगती है। बड़ी सम्भाल से मोतियों को टेबुल पर रखा जाता है कि कहाँ हिले नहीं। फिर सुई से डाला जाता है। कहाँ ठीक न बनें तो फिर माला तोड़नी पड़े। यह तो बहुत बड़ी माला है। तुम बच्चे जानते हो - हम पढ़ते हैं नई दुनिया के लिए। बाबा ने समझाया है कि स्लोगन बनाओ - हम शूद्र सो ब्राह्मण, ब्राह्मण सो देवता कैसे बनते हैं, आकर समझो। इस चक्र को जानने से तुम चक्रवर्ता राजा बनेंगे। स्वर्ग का मालिक बन जायेंगे। ऐसे स्लोगन बनाकर बच्चों को सिखलाना चाहिए। बाबा युक्तियां तो बहुत बतलाते हैं। वास्तव में वैल्यु तुम्हारी है। तुमको हीरो-हीरोइन का पार्ट मिलता है। हीरे जैसा तुम बनते हो फिर 84 का चक्र लगाए कौड़ी मिसल बनते हो। अब जबकि हीरे जैसा जन्म मिलता है तो कौड़ियों पिछाड़ी क्यों पड़ते हो। ऐसे भी नहीं, कोई घरबार छोड़ना है। बाबा तो कहते हैं गृहस्थ व्यवहार में रहते कमल फूल समान पवित्र रहो और सृष्टि चक्र की नॉलेज को जानकर दैवीगुण भी धारण करो तो तुम हीरे जैसा बन जायेंगे। बरोबर भारत 5 हज़ार वर्ष पहले हीरे जैसा था। यह है - एम ऑब्जेक्ट। इस चित्र को (लक्ष्मी-नारायण के) बहुत महत्व देना है। तुम बच्चों को बहुत सर्विस करनी है प्रदर्शनी म्यूजियम में। विहंग मार्ग की सर्विस बिगर तुम प्रजा कैसे बनायेंगे? भल इस ज्ञान को सुनते भी हैं परन्तु ऊंच पद कोई बिरले पाते हैं। उनके लिए ही कहा जाता है कोटों में कोई। स्कॉलरशिप भी कोई लेते हैं ना। 40-50 बच्चे स्कूल में होते हैं, उनसे कोई एक स्कॉलरशिप लेता है, कोई थोड़ा प्लस में आ जाता है तो उनको भी देते हैं। यह भी ऐसे है। प्लस में बहुत हैं। 8 दाने हैं सो भी नम्बरवार हैं ना। वह पहले-पहले राज गद्दी पर बैठेंगे। फिर कला कम होती जायेगी, लक्ष्मी-नारायण का चित्र है नम्बरवन। उनकी भी डिनायस्टी चलती है, परन्तु चित्र लक्ष्मी- नारायण का ही दिया हुआ है। यहाँ तुम जानते हो चित्र तो बदलते जाते हैं। चित्र देने से क्या फायदा। नाम, रूप, देश, काल सब बदल जाता है।

मीठे-मीठे रूहानी बच्चों को रूहानी बाप बैठ समझाते हैं। कल्प पहले भी बाप ने समझाया था। ऐसे नहीं, कृष्ण ने गोप- गोपियों को सुनाया। कृष्ण के गोप-गोपियाँ होते नहीं। न उनको ज्ञान सिखाया जाता है। वह तो है सतयुग का प्रिन्स। वहाँ कैसे राजयोग सिखायेंगे वा पतित को पावन बनायेंगे। अब तुम अपने बाप को याद करो। बाप फिर टीचर भी है। टीचर को स्टूडेन्ट कभी भूल न सकें। बाप को बच्चे भूल न सकें, गुरू को भी भूल न सकें। बाप तो जन्म से ही होता है। टीचर 5 वर्ष बाद मिलता है। फिर गुरू वानप्रस्थ में मिलता है। जन्म से ही गुरू करने का तो कोई फायदा नहीं है। गुरू की गोद लेकर भी दूसरे दिन मर जाते हैं। फिर गुरू क्या करते हैं? गाते भी हैं सतगुरू बिगर गति नहीं। सतगुरू को छोड़ वह फिर गुरू कह देते। गुरू तो ढेर हैं। बाबा कहते हैं - बच्चे, तुम्हें कोई देहधारी गुरू आदि करने की दरकार नहीं है, तुम्हें किसी से भी कुछ मांगना नहीं है। कहा भी जाता है -मांगने से मरना भला। सबको चिंता रहती है हम कैसे अपने पैसे ट्रांसफर करें। दूसरे जन्म के लिए वह ईश्वर अर्थ दान-पुण्य करते हैं तो उसका रिटर्न इस ही पुरानी सृष्टि में अल्पकाल के लिए मिलता है। यहाँ तुम्हारा ट्रांसफर होता है नई दुनिया में और 21 जन्मों के लिए। तन-मन-धन प्रभू के आगे अर्पण करना है। सो तो जब आये तब अर्पण करेंगे ना। प्रभू को कोई जानते ही नहीं तो गुरू को पकड़ लेते हैं। धन आदि गुरू के आगे अर्पण कर देते हैं। वारिस नहीं होता है तो सब गुरू को देते हैं। आजकल कायदे अनुसार ईश्वर अर्थ भी कोई देते नहीं हैं। बाप समझाते हैं - मैं गरीब निवाज़ हूँ इसलिए मैं आता ही भारत में हूँ। तुमको आकर विश्व का मालिक बनाता हूँ। डायरेक्ट और इनडायरेक्ट में कितना फ़र्क है। वह जानते कुछ भी नहीं। सिर्फ कह देते हैं हम ईश्वर अर्पण करते हैं। है सब बेसमझी। तुम बच्चों को अब समझ मिलती है तो तुम बेसमझ से समझदार बने हो। बुद्धि में ज्ञान है - बाप तो कमाल करते हैं। जरूर बेहद के बाप से बेहद का वर्सा ही मिलना चाहिए। बाप से तुम वर्सा लेते हो सिर्फ दादा द्वारा। दादा भी उनसे वर्सा ले रहे हैं। वर्सा देने वाला एक ही है। उनको ही याद करना है। बाप कहते हैं - बच्चे, मैं इनके बहुत जन्मों के अन्त में आता हूँ, इनमें प्रवेश कर इनको भी पावन बनाता हूँ जो फिर यह फरिश्ता बन जाते हैं। बैज पर तुम बहुत सर्विस कर सकते हो। तुम्हारा यह सब है अर्थ सहित बैजेस। यह तो जीयदान देने वाला चित्र है। इनकी वैल्यु का किसको भी पता नहीं है और बाबा को हमेशा बड़ी चीज़ पसन्द आती है, जो कोई भी दूर से पढ़ सके। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।
धारणा के लिए मुख्य सार:
1) बाप से बेहद का वर्सा लेने के लिए डायरेक्ट अपना तन-मन-धन ईश्वर के आगे अर्पण करने में समझदार बनना है। अपना सब कुछ 21 जन्मों के लिए ट्रांसफर कर लेना है।
2) जैसे बाप पढ़ाने की, सम्भालने की और श्रृंगारने की सर्विस करते हैं, ऐसे बाप समान सर्विस करनी है। जीवन बन्ध से निकाल सबको जीवन मुक्ति में ले जाना है।
हर कर्म चरित्र के रूप में गायन योग्य बनाने वाले महान आत्मा भव!  
महान आत्मा वह है जिसका हर संकल्प, हर कर्म महान् हो। एक भी संकल्प साधारण व व्यर्थ न हो। कोई भी कर्म साधारण व बगैर अर्थ न हो। कर्मेन्द्रियों द्वारा जो भी कर्म हो वह अर्थ सहित हो, समय भी महान कार्य में सफल होता रहे, तब हर चरित्र गायन योग्य होगा। महान आत्माओं का ही यादगार हर्षित मूर्त, आकर्षण मूर्त और अव्यक्त मूर्त के रूप में है।
मान की इच्छा छोड़ स्वमान में टिक जाओ तो मान परछाई के समान पीछे आयेगा।  

Saturday, November 28, 2015

Murli 29 November 2015

29/11/15 Om Shanti Avyakt BapDada Madhuban 01/03/99

“To celebrate Holi means to become completely pure and for everyone’s sanskars to be in harmony.”
Today, BapDada was seeing His holiest and highest children everywhere. Is there any soul in this world who is higher and more elevated than you children? You are the children of the highest-on-high Father. Go around the whole cycle and see whether you can find anyone with a higher status. When you are rulers, is there anyone who has a greater kingdom than yours? In regard to how much you are worshipped and praised, is there anyone who is worshipped in the correct manner to a greater extent than you are? The wonderful secret of the drama is so elevated - that on the basis of knowledge you souls in your living forms know and are also at this time aware of your worthy of worship forms. On the one hand, there are you living souls and, on the other hand, there are the non-living images of your worthy of worship forms. You can see your worthy of worship forms, can you not? You exist in both your non-living, worthy of worship forms and your living forms. This is such a wonderful play! As regards your kingdom, the kingdom you have is free from obstacles. Throughout the whole cycle only you souls have such an unshakeable and immovable kingdom. Many become kings, but you emperors of the world and the royal family of the emperors of the world are the most elevated of all. So, you are the highest in the kingdom and you are also the highest in your worthy of worship forms. Now, at the confluence age, you have a right to be given your inheritance by God; you have a right to celebrate a meeting with God and you have a right to receive God's love. Does anyone else become a soul of God's family? Only you become this, do you not? Have you become this or are you yet to become this? You have now become this. You are now claiming your inheritance and becoming complete and are about to return home with the Father. The happiness of the confluence age, the attainments of the confluence age and the time of the confluence age are very beautiful, are they not? They are very lovely! Your time of this confluence age is lovelier than your time of ruling, is it not? Is this lovelier, or do you want to go there quickly? In that case, why do you ask Baba when destruction will take place? You are still wondering when destruction is going to take place and what will happen and where you will be at that time. BapDada says: Wherever you are, if you are in remembrance of the Father, you will be with the Father. Whether you are with the Father in your corporeal form or your subtle form, nothing will happen to you. You were told a story in the days of sakar Baba, were you not? What happened to the kittens whilst they were in the furnace? They remained safe, did they not? Or, were they burnt? They all remained safe. So, when you children of God are with Him, you remain safe. If your intellects are engaged elsewhere, you will be affected by that; you will be influenced in one way or another. However, when you are combined with Him, you can’t be alone for even a second; you remain safe. Sometimes, whilst doing karma yoga or doing service, you consider yourselves to be alone. You exclaim, “What can I do? I’m all alone! I have so much work to do!” You get tired. So, why don’t you make the Father your Companion? You want to make someone with two arms your companion. Why don’t you make the one with a thousand arms your Companion? Who could give you greater co-operation: The One with a thousand arms or someone with two arms? Brahma Kumars and Kumaris of the confluence age cannot be alone. It is just that you become so busy serving and doing karma yoga that you forget to take Baba's company and so get tired. Then, when you are tired, you ask: “What can I do now?” Don't get tired! BapDada has come to give you His constant company - as you wake up, get up, perform actions, do service and when you go to sleep. Why does Baba leave the Supreme abode and come here? He comes to give you His company. To give you co-operation was also the reason why Father Brahma became avyakt. The subtle form’s speed of co-operation is a lot faster than that of the corporeal form. This is why Father Brahma changed his abode. Both Father Shiva and Father Brahma are always ready to give you their co-operation. As soon as you think of Baba, you will experience His co-operation. However, when you constantly only remember service, just service and more service, you put the Father aside to sit and observe everything from there. So, the Father just watches everything as the detached Observer and sees to what extent you are able to do everything on your own. However, you still have to come back here, so don’t leave Baba’s company. Keep Baba tied to you with your right and with the subtle thread of your love. Because this thread becomes a little loose, your love becomes slack and you put your rights out your awareness. Don't do this anymore! The Almighty Authority is offering you His company. So, do you ever receive such an offer throughout the rest of the whole cycle? You do not, do you? So, BapDada continues to watch everything as the detached Observer to see to what extent you are able to do everything by yourself. Therefore, keep your happiness and fortune of the confluence age emerged. Because you are busy, your intellect is busy elsewhere and your awareness of that also becomes merged. Consider this: If you were asked whether throughout the day you remember the Father or whether you forget Him, what would you reply? No! It is right to say that you do remember Him. However, is your remembrance of Him emerged or does it remain merged? What is your stage like? Is your stage that of an emerged awareness or merged awareness? What is the difference between the two? So, why is your remembrance not of an emerged form? The intoxication, power, co-operation and success you receive when your remembrance is emerged is very great. It shouldn’t be possible for you to forget to remember Baba, because your relationship with Him is not just for this one birth. Even though Father Shiva is not with you in the golden age, you would still have the same relationship, would you not? So, it is right that you cannot forget the Father. Yes, it’s true that you may sometimes become influenced by some obstacles and may forget Baba. However, when you are in your natural form, you don’t forget Baba but your remembrance becomes merged. This is why BapDada tells you to check yourself again and again to see whether you experience Baba's company in a merged form or an emerged form. You do have love for Baba. Can your love be broken? It cannot break, can it? So, since your love cannot break, take the benefit of that love. Learn how to take this benefit. BapDada sees that it is this love that has made you belong to the Father. It is this love that makes you into residents of Madhuban. No matter what your situation is like at your own places, no matter how much effort you make there, you still come to Madhuban. BapDada knows and can see that, because of the iron-aged circumstances, many children find it very difficult to buy a ticket. However, their love makes them reach here. It is like this, is it not? You reach here because of your love for Baba, but these circumstances continue to increase day by day. The Lord is pleased with an honest heart, but you do also receive physical co-operation from somewhere or other in some form or another. Whether you are double foreigners or whether you reside in Bharat, your love for the Father enables you to go across any barrier of circumstances. It is like this, is it not? Look at your own centres and you can see such children. They leave here wondering whether they’ll be able to come here next year or not. However, they do reach here. This is the proof of their love. Achcha.

Today, you celebrated Holi? Did you celebrate Holi? BapDada is seeing the holy swans who are celebrating Holi. All of you children have the same title, "The holiest.” From the copper age onwards, no righteous or great soul has made everyone else the holiest. They become holy themselves, but they do not make their followers or their companions the holiest or pure. Whereas here, purity is the foundation of your Brahmin life. What is the foundation of your study? Your slogan is: Be holy, be yogi! You have this slogan, do you not? Purity is your greatness. Purity is the basis of your yogi life. Children, whilst moving along, if you sometimes experience some impurity in your mind, if you have wasteful or negative thoughts about others, then, no matter how much you want to have powerful yoga, you are unable to do so. If there is even the slightest trace of impurity in your thoughts, then, just as it cannot be day and night at the same time, so too, because of that trace of impurity, you cannot remember the pure Father as He is and what He is. This is why BapDada repeatedly draws your attention to purity at the present time. Until a short time ago, Baba would only signal you about purity in action. However, now that the time of completion is coming closer, even the slightest trace of impurity in your thoughts will deceive you. Therefore, purity is absolutely essential in everything: in your thoughts, words, deeds, connections and relationships. Just because you cannot see what is in your mind, your mind must not become slack about this. Your mind can deceive you a lot. The internal inheritance of Brahmin life is constantly to be an embodiment of happiness and peace and for your mind to experience contentment. In order to experience that, you need purity of mind. To make yourself happy with external facilities or through service is to deceive yourself.

BapDada sees that some children sometimes deceive themselves because of this. By considering themselves to be very good and happy, they continue to deceive themselves. This too is a deep secret. Baba is the Bestower and you are the children of the Bestower. Sometimes, your service is not yuktiyukt, but mixed; some of it is accomplished by having remembrance and some of it is accomplished on the basis of your external facilities and your happiness; it is not from your heart but from your head. Then, since the Father is the Bestower, you also receive the practical fruit of your service. You become happy and think that because your service was very good, you have received the fruit of that. However, your mind is unable to experience contentment nor can you souls experience powerfully yogyukt remembrance. You deprive yourself of this experience. It isn't that you don't receive anything. You definitely do receive something or other, but you are unable to accumulate anything. You eat and finish whatever you earn! This is why you need to pay attention to this. You serve very well and so you receive very good fruit for that. However, if you simply eat and finish it all, what do you accumulate? You do good service very well and have a good result, but you don’t accumulate any fruit of the service you do. The way to accumulate fruit is to have purity in your thoughts, words and deeds. Your foundation is purity. In service too, the foundation is purity: Be clean and clear and let there be no other motives. There has to be purity in your motives and your feelings. “Holi” means purity and to burn all impurity. This is why during Holi people first burn and then celebrate. You become pure and celebrate the harmonizing of your sanskars. Holi means to burn and to celebrate. When people of the world outside meet, they embrace one another, whereas here, you have an auspicious meeting of harmonising your sanskars. So, did you celebrate Holi in this way? Or, did you just dance and sprinkle rose water? That is good! You may celebrate as much as you want. BapDada is pleased to see you sprinkling as much rose water as you want. You may also dance, but dance constantly. Don't just dance for five to ten minutes. To spread the vibrations of virtues over one another is to sprinkle rose water. As for burning, you know what you have to burn and you are even now continuing to burn it. Every year, you raise your hands to say that you have determination. BapDada is pleased to see that at least you stay courageous. So, BapDada congratulates you for your courage. To stay courageous is the first step, but what is BapDada's pure desire? Do not look at the date. Don't wonder whether it’s going to happen in 2000, 2001 or 2005. OK, you may not become ever-ready. BapDada allows you this, but remember that you need those sanskars for a long period of time, do you not? When you speak of this, you say that the effort you make for a long period of time enables you to have the right to the kingdom for a long period of time. If you have determination only at the time of need will it last for a long period of time, or will it just be temporary? In which column would you put that? It would be of a temporary period. The Father is imperishable but what inheritance do you claim from Him? That of a temporary period! So, would you like this? You would not, would you? Therefore, you need the practice over a long period of time; don't worry about how long the period is. The more you practise this over a long period of time, the less deceived you will be at the end. If you don't practise this over a long period of time, you deprive yourself of present happiness and an elevated stage for a long period of time. So, what must you do? Practise over a long period of time! If you are waiting for the date, stop waiting and start preparing! Prepare yourself for a long period of time! You have to bring about the date. Time is ever-ready even now. Even tomorrow it could do what it wants. However, time is waiting for you. As soon as you become complete, the curtains of time will open. Time is waiting just for you. Those of you who have a right to the kingdom are ready, are you not? The throne should not remain unoccupied, should it? What could a world emperor sitting on the throne alone do by himself? Would that seem right? He would need all of his royal family and subjects. The world emperor cannot just sit by himself on the throne. He would be wondering where his royal family is. This is why BapDada has one pure desire for all you children. Whether old or new, those who call yourselves Brahma Kumars or Kumaris, whether you are residents of Madhuban, residents of Bharat or foreigners, each of you children needs to practise this for a long period of time, so that you claim your right to your kingdom for a long period of time, not just for some time. Do you like this? You may clap with one hand. Those sitting at the back are very clever; they are listening with attention. BapDada can see those sitting at the back as clearly as if they were sitting in front of Him. Those sitting at the front are at the front anyway. (Some are listening to the murli in the Meditation Hall). The ones sitting below are the crown on BapDada's head. They are also clapping. Those sitting below will receive the fortune of their renunciation. You have received the fortune of sitting personally in front of Baba, whilst they are accumulating their fortune of renunciation. Achcha. Did all of you hear the one desire that BapDada has? Do you like it? So, what will Baba see next year? Will be raising your hand in the same way next year too? You may raise your hand, you may even raise two hands, but you must also raise the hand of your mind. Raise your hand of determination for all time. BapDada wants to see the jewel of complete purity sparkling on each one's forehead. He wants to see purity sparkling in your eyes. He wants to see the stars of both eyes sparkling with the sparkle of spirituality. He wants to hear sweetness and speciality in your invaluable words. He wants to see constant contentment and humility in your deeds. Let there be constant good wishes in your feelings and a constant attitude of brotherhood in your motives. The halo of an angel’s light should constantly be visible around your head. To be able to see this means to experience it. BapDada wants to see you as such adorned images. Only such images will be the most elevated souls, worthy of worship. Those people will create non-living images of you, but the Father wants to see you become this in your living forms. Achcha.

To all the children everywhere, to the close and constant companions who stay constantly with the Father, to those who make effort over a long period of time and claim their rights of the confluence age and the future right to the kingdom for a long period of time, to such extremely sensible souls who keep themselves constantly adorned with virtues and powers, to the souls who are the lamps of the Father's hopes, to those who are constantly stable in the holiest and highest stage, to the extremely lovely souls who are equal to the Father, BapDada's love, remembrance
May you be a complete conqueror of attachment and also finish any attraction of adverse situations that come in the form of karmic accounts.   
Until now adverse situations created by matter have been affecting your stage to a certain extent. The remaining karmic accounts of the body and the situations that come in the form of the remaining suffering of karma attract you the most. When this attraction also finishes, you will then be said to be a complete conqueror of attachment. The body and the situations of the bodily world will not be able to shake your stage even slightly. This is the complete stage. When you reach such a stage, you will then easily be able to stabilise yourself in the stage of a master almighty authority in a second.
The vow of purity is the most elevated vow of the true Narayan; supersensuous joy is merged in this.   

मुरली 29 नवंबर 2015

29-11-15 प्रात:मुरली ओम् शान्ति “अव्यक्त-बापदादा” रिवाइज:01-03-99 मधुबन

“होली मनाना अर्थात् सम्पूर्ण पवित्र बनकर संस्कार मिलन मनाना”
आज बापदादा चारों ओर के अपने होलीएस्ट और हाइएस्ट बच्चों को देख रहे हैं। विश्व में सबसे हाइएस्ट ऊंचे ते ऊंचे श्रेष्ठ आत्मायें आप बच्चों के सिवाए और कोई है? क्योंकि आप सभी ऊंचे ते ऊंचे बाप के बच्चे हैं। सारे कल्प में चक्र लगाकर देखो तो सबसे ऊंचे मर्तबे वाले और कोई नज़र आते हैं? राज्य अधिकारी स्वरूप में भी आपसे ऊंचे राज्य अधिकारी बने हैं? फिर पूजन और गायन में देखो जितनी पूजा विधिपूर्वक आप आत्माओं की होती है उससे ज्यादा और किसी की है? वन्डरफुल राज़ ड्रामा का कितना श्रेष्ठ है जो आप स्वयं चैतन्य स्वरूप में, इस समय अपने पूज्य स्वरूप को नॉलेज के द्वारा जानते भी हो और देखते भी हो। एक तरफ आप चैतन्य आत्मायें हैं और दूसरे तरफ आपके जड़ चित्र पूज्य रूप में हैं। अपने पूज्य स्वरूप को देख रहे हो ना? जड़ रूप में भी हो और चैतन्य रूप में भी हो। तो वन्डरफुल खेल है ना! और राज्य के हिसाब से भी सारे कल्प में निर्विघ्न, अखण्ड-अटल राज्य एक आप आत्माओं का ही चलता है। राज़े तो बहुत बनते हैं लेकिन आप विश्वराज़न वा विश्वराजन की रॉयल फैमिली सबसे श्रेष्ठ है। तो राज्य में भी हाइएस्ट, पूज्य रूप में भी हाइएस्ट और अब संगम पर परमात्म वर्से के अधिकारी, परमात्म मिलन के अधिकारी, परमात्म प्यार के अधिकारी, परमात्म परिवार की आत्मायें और कोई बनती हैं? आप ही बने हो ना? बन गये हो या बन रहे हो? बन भी गये और अब तो वर्सा लेकर सम्पन्न बन बाप के साथ-साथ अपने घर में भी चलने वाले हैं। संगम का सुख, संगमयुग की प्राप्तियां, संगमयुग का समय सुहाना लगता है ना! बहुत प्यारा लगता है। राज्य के समय से भी संगम का समय प्यारा लगता है ना? प्यारा है या जल्दी जाने चाहते हो? फिर पूछते क्यों हो कि बाबा विनाश कब होगा? सोचते हो ना - पता नहीं विनाश कब होगा? क्या होगा? हम कहाँ होंगे? बापदादा कहते हैं जहाँ भी होंगे - याद में होंगे, बाप के साथ होंगे। साकार में या आकार में साथ होंगे तो कुछ नहीं होगा। साकार में कहानी सुनाई है ना। बिल्ली के पूंगरे भट्ठी में होते हुए भी सेफ रहे ना! या जल गये? सब सेफ रहे। तो आप परमात्म बच्चे जो साथ होंगे वह सेफ रहेंगे। अगर और कहाँ बुद्धि होगी तो कुछ न कुछ सेक लगेगा, कुछ न कुछ प्रभाव होगा। साथ में कम्बाइन्ड होंगे, एक सेकण्ड भी अकेले नहीं होंगे तो सेफ रहेंगे। कभी-कभी कामकाज या सेवा में अकेले अनुभव करते हो? क्या करें अकेले हैं, बहुत काम है! फिर थक भी जाते हैं। तो बाप को क्यों नहीं साथी बनाते! दो भुजा वालों को साथी बना देते, हजार भुजा वाले को क्यों नहीं साथी बनाते। कौन ज्यादा सहयोग देगा? हजार भुजा वाला या दो भुजा वाला?

संगमयुग पर ब्रह्माकुमार वा ब्रह्माकुमारी अकेले नहीं हो सकते। सिर्फ जब सेवा में, कर्मयोग में बहुत बिजी हो जाते हो ना तो साथ भी भूल जाते हो और फिर थक जाते हो। फिर कहते हो थक गये, अभी क्या करें! थको नहीं, जब बापदादा आपको सदा साथ देने के लिए आये हैं, परमधाम छोड़कर क्यों आये हैं? सोते, जागते, कर्म करते, सेवा करते, साथ देने के लिए ही तो आये हैं। ब्रह्मा बाप भी आप सबको सहयोग देने के लिए अव्यक्त बनें। व्यक्त रूप से अव्यक्त रूप में सहयोग देने की रफ्तार बहुत तीव्र है, इसलिए ब्रह्मा बाप ने भी अपना वतन चेंज कर दिया। तो शिव बाप और ब्रह्मा बाप दोनों हर समय आप सबको सहयोग देने के लिए सदा हाज़िर हैं। आपने सोचा बाबा और सहयोग अनुभव करेंगे। अगर सेवा, सेवा, सेवा सिर्फ वही याद है, बाप को किनारे बैठ देखने के लिए अलग कर देते हो, तो बाप भी साक्षी होकर देखते हैं, देखें कहाँ तक अकेले करते हैं। फिर भी आने तो यहाँ ही हैं। तो साथ नहीं छोड़ो। अपने अधिकार और प्रेम की सूक्ष्म रस्सी से बांधकर रखो। ढीला छोड़ देते हो। स्नेह को ढीला कर देते हो, अधिकार को थोड़ा सा स्मृति से किनारा कर देते हो। तो ऐसे नहीं करना। जब सर्वशक्तिवान साथ का आफर कर रहा है तो ऐसी आफर सारे कल्प में मिलेगी? नहीं मिलेगी ना? तो बापदादा भी साक्षी होकर देखते हैं, अच्छा देखें कहाँ तक अकेले करते हैं!

तो संगमयुग के सुख और सुहेज़ों को इमर्ज रखो। बुद्धि बिजी रहती है ना तो बिजी होने के कारण स्मृति मर्ज हो जाती है। आप सोचो सारे दिन में किसी से भी पूछें कि बाप याद रहता है या बाप की याद भूलती है? तो क्या कहेंगे? नहीं। यह तो राइट है कि याद रहता है लेकिन इमर्ज रूप में रहता है या मर्ज रहता है? स्थिति क्या होती है? इमर्ज रूप की स्थिति या मर्ज रूप की स्थिति, इसमें क्या अन्तर है? इमर्ज रूप में याद क्यों नहीं रखते? इमर्ज रूप का नशा शक्ति, सहयोग, सफलता बहुत बड़ी है। याद तो भूल नहीं सकते क्योंकि एक जन्म का नाता नहीं है, चाहे शिव बाप सतयुग में साथ नहीं होगा लेकिन नाता तो यही रहेगा ना! भूल नहीं सकता है, यह राइट है। हाँ कोई विघ्न के वश हो जाते हो तो भूल भी जाता है लेकिन वैसे जब नेचरल रूप में रहते हो तो भूलता नहीं है लेकिन मर्ज रहता है। इसलिए बापदादा कहते हैं - बार-बार चेक करो कि साथ का अनुभव मर्ज रूप में है या इमर्ज रूप में? प्यार तो है ही। प्यार टूट सकता है? नहीं टूट सकता है ना? तो प्यार जब टूट नहीं सकता तो प्यार का फ़ायदा तो उठाओ। फ़ायदा उठाने का तरीका सीखो।

बापदादा देखते हैं प्यार ने ही बाप का बनाया है। प्यार ही मधुबन निवासी बनाता है। चाहे अपने स्थान पर कैसे भी रहें, कितना भी मेहनत करें लेकिन फिर भी मधुबन में पहुंच जाते हैं। बापदादा जानते हैं, देखते हैं, कई बच्चों को कलियुगी सरकमस्टांश होने के कारण टिकेट लेना भी मुश्किल है परन्तु प्यार पहुंचा ही देता है। ऐसे है ना? प्यार में पहुंच जाते हैं लेकिन सरकमस्टांश तो दिनप्रतिदिन बढ़ते ही जाते हैं। सच्ची दिल पर साहेब राज़ी तो होता ही है। लेकिन स्थूल सहयोग भी कहाँ न कहाँ कैसे भी मिल जाता है। चाहे डबल फारेनर्स हों, चाहे भारतवासी, सबको यह बाप का प्यार सरकमस्टांश की दीवार पार करा लेता है। ऐसे है ना? अपने-अपने सेन्टर्स पर देखो तो ऐसे बच्चे भी हैं जो यहाँ से जाते हैं, सोचते हैं पता नहीं दूसरे वर्ष आ सकेंगे या नहीं आ सकेंगे लेकिन फिर भी पहुंच जाते हैं। यह है प्यार का सबूत। अच्छा।

आज होली मनाई? मना ली होली? बापदादा तो होली मनाने वाले होलीहंसों को देख रहे हैं। सभी बच्चों का एक ही टाइटल है होलीएस्ट। द्वापर से लेकर किसी भी धर्मात्मा या महात्मा ने सर्व को होलीएस्ट नहीं बनाया है। स्वयं बनते हैं लेकिन अपने फालोअर्स को, साथियों को होलीएस्ट, पवित्र नहीं बनाते और यहाँ पवित्रता ब्राह्मण जीवन का मुख्य आधार है। पढ़ाई भी क्या है? आपका स्लोगन भी है “पवित्र बनो-योगी बनो”। स्लोगन है ना? पवित्रता ही महानता है। पवित्रता ही योगी जीवन का आधार है। कभी-कभी बच्चे अनुभव करते हैं कि अगर चलते-चलते मन्सा में भी अपवित्रता अर्थात् वेस्ट वा निगेटिव, परचिन्तन के संकल्प चलते हैं तो कितना भी योग पावरफुल चाहते हैं, लेकिन होता नहीं है क्योंकि जरा भी अंशमात्र संकल्प में भी किसी प्रकार की अपवित्रता है तो जहाँ अपवित्रता का अंश है वहाँ पवित्र बाप की याद जो है, जैसा है वैसे नहीं आ सकती। जैसे दिन और रात इकट्ठा नहीं होता। इसीलिए बापदादा वर्तमान समय पवित्रता के ऊपर बार-बार अटेन्शन दिलाते हैं। कुछ समय पहले बापदादा सिर्फ कर्म में अपवित्रता के लिए इशारा देते थे लेकिन अभी समय सम्पूर्णता के समीप आ रहा है इसलिए मन्सा में भी अपवित्रता का अंश धोखा दे देगा। तो मन्सा, वाचा, कर्मणा, सम्बन्ध-सम्पर्क सबमें पवित्रता अति आवश्यक है। मन्सा को हल्का नहीं करना क्योंकि मन्सा बाहर से दिखाई नहीं देती है लेकिन मन्सा धोखा बहुत देती है। ब्राह्मण जीवन का जो आन्तरिक वर्सा सदा सुख स्वरूप, शान्त स्वरूप, मन की सन्तुष्टता है, उसका अनुभव करने के लिए मन्सा की पवित्रता चाहिए। बाहर के साधनों द्वारा या सेवा द्वारा अपने आपको खुश करना - यह भी अपने को धोखा देना है।

बापदादा देखते हैं कभी-कभी बच्चे अपने को इसी आधार पर अच्छा समझ, खुश समझ धोखा दे देते हैं, दे भी रहे हैं। दे देते हैं और दे भी रहे हैं। यह भी एक गुह्य राज़ है। क्या होता है, बाप दाता है, दाता के बच्चे हैं, तो सेवा युक्तियुक्त नहीं भी है, मिक्स है, कुछ याद और कुछ बाहर के साधनों वा खुशी के आधार पर है, दिल के आधार पर नहीं लेकिन दिमाग के आधार पर सेवा करते हैं तो सेवा का प्रत्यक्ष फल उन्हों को भी मिलता है; क्योंकि बाप दाता है और वह उसी में ही खुश रहते हैं कि वाह हमको तो फल मिल गया, हमारी अच्छी सेवा है। लेकिन वह मन की सन्तुष्टता सदाकाल नहीं रहती और आत्मा योगयुक्त पावरफुल याद का अनुभव नहीं कर सकती, उससे वंचित रह जाते। बाकी कुछ भी नहीं मिलता हो, ऐसा नहीं है। कुछ न कुछ मिलता है लेकिन जमा नहीं होता। कमाया, खाया और खत्म। इसलिए यह भी अटेन्शन रखना। सेवा बहुत अच्छी कर रहे हैं, फल भी अच्छा मिल गया, तो खाया और खत्म। जमा क्या हुआ? अच्छी सेवा की, अच्छी रिजल्ट निकली, लेकिन वह सेवा का फल मिला, जमा नहीं होता। इसलिए जमा करने की विधि है - मन्सा-वाचा- कर्मणा पवित्रता। फाउन्डेशन पवित्रता है। सेवा में भी फाउन्डेशन पवित्रता है। स्वच्छ हो, साफ हो। और कोई भी भाव मिक्स नहीं हो। भाव में भी पवित्रता, भावना में भी पवित्रता। होली का अर्थ ही है - पवित्रता। अपवित्रता को जलाना। इसीलिए पहले जलाते हैं फिर मनाते हैं और फिर पवित्र बन संस्कार मिलन मनाते हैं। तो होली का अर्थ ही है - जलाना, मनाना। बाहर वाले तो गले मिलते हैं लेकिन यहाँ संस्कार मिलन, यही मंगल मिलन है। तो ऐसी होली मनाई या सिर्फ डांस कर ली? गुलाबजल डाल दिया? वह भी अच्छा है खूब मनाओ। बापदादा खुश होते हैं गुलाबजल भले डालो, डांस भले करो लेकिन सदा डांस करो। सिर्फ 5-10 मिनट की डांस नहीं। एक दो में गुणों का वायब्रेशन फैलाना - यह गुलाबजल डालना है। और जलाने को तो आप जानते ही हो, क्या जलाना है! अभी तक भी जलाते रहते हो। हर वर्ष हाथ उठाकर जाते हैं, बस दृढ़ संकल्प हो गया। बापदादा खुश होते हैं, हिम्मत तो रखते हैं। तो हिम्मत पर बापदादा मुबारक भी देते हैं। हिम्मत रखना भी पहला कदम है। लेकिन बापदादा की शुभ आशा क्या है? समय की डेट नहीं देखो। 2 हजार में होगा, 2001 में होगा, 2005 में होगा, यह नहीं सोचो। चलो एवररेडी नहीं भी बनो इसको भी बापदादा छोड़ देते हैं, लेकिन सोचो बहुतकाल के संस्कार तो चाहिए ना! आप लोग ही सुनाते हो कि बहुतकाल का पुरूषार्थ, बहुतकाल के राज्य अधिकारी बनाता है। अगर समय आने पर दृढ़ संकल्प किया, तो वह बहुतकाल हुआ या अल्पकाल हुआ? किसमें गिनती होगा? अल्पकाल में होगा ना! तो अविनाशी बाप से वर्सा क्या लिया? अल्पकाल का। यह अच्छा लगता है? नहीं लगता है ना! तो बहुतकाल का अभ्यास चाहिए, कितना काल है वह नहीं सोचो, जितना बहुतकाल का अभ्यास होगा, उतना अन्त में भी धोखा नहीं खायेंगे। बहुतकाल का अभ्यास नहीं तो अभी के बहुतकाल के सुख, बहुतकाल की श्रेष्ठ स्थिति के अनुभव से भी वंचित हो जाते हैं। इसलिए क्या करना है? बहुतकाल करना है? अगर किसी के भी बुद्धि में डेट का इन्तजार हो तो इन्तजार नहीं करना, इन्तजाम करो। बहुतकाल का इन्तजाम करो। डेट को भी आपको लाना है। समय तो अभी भी एवररेडी है, कल भी हो सकता है लेकिन समय आपके लिए रूका हुआ है। आप सम्पन्न बनो तो समय का पर्दा अवश्य हटना ही है। आपके रोकने से रूका हुआ है। राज्य अधिकारी तो तैयार हो ना? तख्त तो खाली नहीं रहना चाहिए ना! क्या अकेला विश्वराजन तख्त पर बैठेगा! इससे शोभा होगी क्या? रॉयल फैमिली चाहिए, प्रजा चाहिए, सब चाहिए। सिर्फ विश्वराजन तख्त पर बैठ जाए, देखता रहे कहाँ गई मेरी रॉयल फैमिली। इसलिए बापदादा की एक ही शुभ आशा है कि सब बच्चे चाहे नये हैं, चाहे पुराने हैं, जो भी अपने को ब्रह्माकुमारी या ब्रह्माकुमार कहलाते हैं, चाहे मधुबन निवासी, चाहे विदेश निवासी, चाहे भारत निवासी - हर एक बच्चा बहुतकाल का अभ्यास कर बहुतकाल के अधिकारी बनें। कभी- कभी के नहीं। पसन्द है? एक हाथ की ताली बजाओ। पीछे वाले होशियार हैं, अटेन्शन से सुन रहे हैं। बापदादा पीछे वालों को अपने आगे देख रहा है। आगे वाले तो हैं ही आगे। (मेडीटेशन हाल में बैठकर मुरली सुन रहे हैं) नीचे वाले बापदादा के सिर के ताज होकर बैठे हैं। वह भी ताली बजा रहे हैं। नीचे वालों को त्याग का भाग्य तो मिलना ही है। आपको सम्मुख बैठने का भाग्य है और उन्हों के त्याग का भाग्य जमा हो रहा है। अच्छा बापदादा की एक आश सुनी! पसन्द है ना! अभी अगले वर्ष क्या देखेंगे? ऐसे ही फिर भी हाथ उठायेंगे! हाथ भले उठाओ, दो-दो उठाओ परन्तु मन का हाथ भी उठाओ। दृढ़ संकल्प का हाथ सदा के लिए उठाओ।

बापदादा एक-एक बच्चे के मस्तक में सम्पूर्ण पवित्रता की चमकती हुई मणी देखने चाहते हैं। नयनों में पवित्रता की झलक, पवित्रता के दो नयनों के तारे, रूहानियत से चमकते हुए देखने चाहते हैं। बोल में मधुरता, विशेषता, अमूल्य बोल सुनने चाहते हैं। कर्म में सन्तुष्टता, निर्माणता सदा देखने चाहते हैं। भावना में - सदा शुभ भावना और भाव में सदा आत्मिक भाव, भाई-भाई का भाव। सदा आपके मस्तक से लाइट का, फरिश्ते पन का ताज दिखाई दे। दिखाई देने का मतलब है अनुभव हो। ऐसे सजे सजाये मूर्त देखने चाहते हैं। और ऐसी मूर्त ही श्रेष्ठ पूज्य बनेगी। वह तो आपके जड़ चित्र बनायेंगे लेकिन बाप चैतन्य चित्र देखने चाहते हैं। अच्छा -

चारों ओर के सदा बापदादा के साथ रहने वाले, समीप के सदा के साथी, सदा बहुतकाल के पुरूषार्थ द्वारा बहुतकाल का संगमयुगी अधिकार और भविष्य राज्य अधिकार प्राप्त करने वाले अति सेन्सीबुल आत्मायें, सदा अपने को शक्तियों, गुणों से सजे-सजाये रखने वाले, बाप की आशाओं के दीपक आत्मायें, सदा स्वयं को होलीएस्ट और हाइएस्ट स्थिति में स्थित रखने वाले बाप समान अति स्नेही आत्माओं को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।
कर्मभोग रूपी परिस्थिति की आकर्षण को भी समाप्त करने वाले सम्पूर्ण नष्टोमोष्टा भव!  
अभी तक प्रकृति द्वारा बनी हुई परिस्थितियां अवस्था को अपनी तरफ कुछ-न-कुछ आकर्षित करती हैं। सबसे ज्यादा अपनी देह के हिसाब-किताब, रहे हुए कर्मभोग के रूप में आने वाली परिस्थिति अपने तरफ आकर्षित करती है-जब यह भी आकर्षण समाप्त हो जाए तब कहेंगे सम्पूर्ण नष्टोमोहा। कोई भी देह की वा देह के दुनिया की परिस्थिति स्थिति को हिला नहीं सके-यही सम्पूर्ण स्टेज है। जब ऐसी स्टेज तक पहुंच जायेंगे तब सेकण्ड में अपने मास्टर सर्वशक्तिमान् स्वरूप में सहज स्थित हो सकेंगे।
पवित्रता का व्रत सबसे श्रेष्ठ सत्यनारायण का व्रत है-इसमें ही अतीन्द्रिय सुख समाया हुआ है।