Thursday, August 21, 2014

Murli-(21-08-2014)English

Essence: Sweet children, churn the things that the Father reminds you of at the confluence age and you will remain 
constantly cheerful.

Question: What is the way to remain constantly light? What method should you adopt to remain happy?
Answer: In order to remain constantly light, place in front of the eternal Surgeon all the sins you have committed in 
this birth, and stay on the pilgrimage of remembrance for the sins you have been committing for birth after birth that 
are on your head. Your sins will only be cut away by your having remembrance and then there will be happiness. 
The soul will become satopradhan by having remembrance of the Father.

Essence for dharna: 

1. Understand the beginning, middle and end of the drama very well, keep it in your awareness and also remind others. 
Give the ointment of knowledge and remove the darkness of ignorance. 

2. In order to surrender yourself fully like Father Brahma, follow him completely. Everything, including your body, is to 
end. Therefore, die alive in advance so that you do not remember anything in the final moments.

Blessing: May you be an enlightened soul and sacrifice your main weakness out of love for the Father. 

BapDada sees that even now, the majority of you have waste thoughts of all the five vices. Enlightened souls also 
sometimes have arrogance of their virtues and specialities. Each one of you definitely knows your main weakness or 
your main sanskar. Therefore, to sacrifice that weakness out of love for the Father is the proof of your love. Loving 
and knowledgeable souls surrender their waste thoughts out of love for the Father.

Slogan: Remain stable on the seat of self-respect who gives regard to everyone and become a soul worthy of respect.

Murli-(21-08-2014)-Hindi

मुरली सार:- “मीठे बच्चे - बाप ने तुम्हें संगम पर जो स्मृतियाँ दिलाई हैं, उसका 
सिमरण करो तो सदा हर्षित रहेंगे’’ 

प्रश्न:- सदा हल्के रहने की युक्ति क्या है? किस साधन को अपनाओ तो खुशी में रह सकेंगे? 
उत्तर:- सदा हल्का रहने के लिए इस जन्म में जो-जो पाप हुए हैं, वह सब अविनाशी 
सर्जन के आगे रखो। बाकी जन्म-जन्मान्तर के पाप जो सिर पर हैं उसके लिए याद 
की यात्रा में रहो। याद से ही पाप कटेंगे, फिर खुशी रहेगी। बाप की याद से आत्मा 
सतोप्रधान बन जायेगी। 

धारणा के लिए मुख्य सार:- 

1) ड्रामा के आदि-मध्य-अन्त को अच्छी तरह समझ, स्मृति में रख दूसरों को भी 
स्मृति दिलानी है। ज्ञान अंजन देकर अज्ञान अंधेरे को दूर करना है। 

2) ब्रह्मा बाप समान कुर्बान जाने में पूरा फालो करना है। शरीर सहित सब खलास हो 
जाना है इसलिए इससे पहले ही जीते जी मरना है। ताकि अन्त समय में कुछ भी 
याद न आये। 

वरदान:- बाप के प्यार में अपनी मूल कमजोरी कुर्बान करने वाले ज्ञानी तू आत्मा भव 

बापदादा देखते हैं अभी तक पांच ही विकारों के व्यर्थ संकल्प मैजारिटी के चलते हैं। 
ज्ञानी आत्माओं में भी कभी-कभी अपने गुण वा विशेषता का अभिमान आ जाता है, 
हर एक अपनी मूल कमजोरी वा मूल संस्कार को जानता भी है, उस कमजोरी को 
बाप के प्यार में कुर्बान कर देना - यही प्यार का सबूत है। स्नेही वा ज्ञानी तू आत्मायें 
बाप के प्यार में व्यर्थ संकल्पों को भी न्योछावर कर देती हैं। 

स्लोगन:- स्वमान की सीट पर स्थित रह सर्व को सम्मान देने वाले माननीय आत्मा बनो। 

Wednesday, August 20, 2014

Murli-(20-08-2014)-Hindi

मुरली सार:- “मीठे बच्चे - दु:ख हर्ता सुख कर्ता बाप को याद करो तो तुम्हारे सब दु:ख दूर 
हो जायेंगे, अन्त मति सो गति हो जायेगी” 

प्रश्न:- बाप ने तुम बच्चों को चलते-फिरते याद में रहने का डायरेक्शन क्यों दिया है? 
उत्तर:- 
1. क्योंकि याद से ही जन्म-जन्मान्तर के पापों का बोझ उतरेगा, 
2. याद से ही आत्मा सतोप्रधान बनेगी, 
3. अभी से याद में रहने का अभ्यास होगा तो अन्त समय में एक बाप की याद में 
रह सकेंगे। अन्त के लिए ही गायन है - अन्तकाल जो स्त्री सिमरे.... 
4. बाप को याद करने से 21 जन्मों का सुख सामने आ जाता है। बाप जैसी मीठी 
चीज़ दुनिया में कोई नहीं, इसलिए बाप का डायरेक्शन है-बच्चे, चलते-फिरते मुझे 
ही याद करो। 

धारणा के लिए मुख्य सार:- 

1) इन आंखों से ईविल (बुरा) नहीं देखना है। बाप ने जो ज्ञान का तीसरा नेत्र दिया है, 
उस सिविल नेत्र से ही देखना है। सतोप्रधान बनने का पूरा पुरूषार्थ करना है। 

2) गृहस्थ व्यवहार को सम्भालते हुए प्यारी चीज़ बाप को याद करना है। अवस्था ऐसी 
जमानी है जो अन्तकाल में एक बाप के सिवाए दूसरा कुछ भी याद न आये। 

वरदान:- स्नेह के रिटर्न में स्वयं को टर्न कर बाप समान बनने वाले सम्पन्न और सम्पूर्ण भव 

स्नेह की निशानी है वो स्नेही की कमी देख नहीं सकते। स्नेही की गलती अपनी गलती 
समझेंगे। बाप जब बच्चों की कोई बात सुनते हैं तो समझते हैं यह मेरी बात है। बाप 
बच्चों को अपने समान सम्पन्न और सम्पूर्ण देखना चाहते हैं। इस स्नेह के रिटर्न में 
स्वयं को टर्न कर लो। भक्त तो सिर उतारकर रखने के लिए तैयार हैं आप शरीर का 
सिर नहीं उतारो लेकिन रावण का सिर उतार दो। 

स्लोगन:- अपने रूहानी वायब्रेशन्स द्वारा शक्तिशाली वायुमण्डल बनाने की सेवा करना 
सबसे श्रेष्ठ सेवा है। 

Murli-(20-08-2014)English

Essence: Sweet children, remember the Father, the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness, 
and all your sorrow will be removed and your final thoughts will lead you to your destination.

Question: Why has the Father given you the direction to stay in remembrance whilst walking and moving 
around?
Answer:
1. It is only through remembrance that your burden of sins of many births will be removed.
2. It is only through remembrance that the soul will become satopradhan.
3. If you have the practice of staying in remembrance from now, you will be able to stay in remembrance 
of the one Father in your final moments. It is remembered of the end: Those who remember their wife in 
their final moments…
4. By remembering the Father, the happiness of 21 births appears in front of you. There is no one in the 
whole world as sweet as the Father. This is why the Father's direction is: Children, whilst walking and 
moving around, remember Me alone.

Essence for dharna: 

1. Do not look at anything evil with your eyes. Look at everything with the third eye of knowledge, the civil 
eye, that the Father has given you. Make full effort to become satopradhan. 

2. Whilst taking care of your home and family, remember the Father, the loveliest of all. Create such a stage 
that, at the end, you do not remember anything except the one Father.

Blessing: May you turn (transform) yourself as a return of love and become equal to the Father, complete 
and perfect. 

The sign of loving someone is that you cannot bear to see any weaknesses in the one you love. You will 
consider the mistake of someone you love to be your own mistake. When the Father hears anything about 
the children, He considers it to apply to Him. The Father wishes to see the children complete and perfect, 
the same as He is. As a return of this love, turn yourself. Devotees are ready to cut off their head and offer 
it to that One. You don’t have to cut off your physical head, but cut off the heads of Ravan.

Slogan: To do the service of creating a powerful atmosphere through your spiritual vibrations is most elevated 
service.

Tuesday, August 19, 2014

Murli-(19-08-2014)English

Essence: Sweet children, the greatest Father does not give you

important people a lot of effort to make. He says: Just remember two
words: Alpha and beta.

Question: What is the spiritual Father’s main task through which He
experiences pleasure?
Answer: The spiritual Father’s main task is to purify the impure. The
Father experiences great pleasure in purifying you. The Father comes
to grant salvation to you children. He makes you all satopradhan
because you now have to return home. Simply make this one lesson firm:
I am a soul not a body. It is through this lesson that you can have
remembrance of the Father and become pure.

Essence for dharna:

1.      In order to pass with full marks, make your intellect satopradhan
and divine. Change from one with a gross intellect into one with a
subtle intellect and understand the unique secrets of the drama.

2.      Now perform divine and alokik actions like the Father does. Become
doubly non-violent and have your sins absolved with the power of yoga.

Blessing: May you be a powerful soul who experiences safety and gives
others the same experience by surrounding them with pure thoughts.

A powerful soul is one who finishes all waste in less than a second
with the power of determination. Recognise the power of pure thoughts.
One pure and powerful thought can perform many wonders. Simply have a
determined thought and this determination will bring success. Surround
everyone with pure thoughts and tie them with this in such a way that
if any of them are even a little weak, their being surrounded in this
way will become a canopy of protection, a means of safety and a
fortress for them.

Slogan: Those who receive sustenance, study and the shrimat for an
elevated life directly from God have the most elevated fortune.

Murli-(19-08-2014)-Hindi

मुरली सार:- “मीठे बच्चे - बड़ा बाबा तुम बड़े आदमियों को ज्यादा मेहनत
नहीं देते, सिर्फ दो अक्षर याद करो अल्फ और बे’’

प्रश्न:- रूहानी बाप का मुख्य कर्तव्य कौन-सा है, जिसमें ही बाप को मजा आता है?
उत्तर:- रूहानी बाप का मुख्य कर्तव्य है पतितों को पावन बनाना। बाप को
पावन बनाने में ही बहुत मजा आता है। बाप आते ही हैं बच्चों की सद्गति
करने, सबको सतोप्रधान बनाने क्योंकि अब घर जाना है। सिर्फ एक पाठ पक्का
करो-हम देह नहीं आत्मा हैं। इसी पाठ से बाप की याद रहेगी और पावन बनेंगे।

धारणा के लिए मुख्य सार:-
1) फुल मार्क्स से पास होने के लिए अपनी बुद्धि को सतोप्रधान पारस बनाना
है। मोटी बुद्धि से महीन बुद्धि बन ड्रामा के विचित्र राज़ को समझना है।

2) अभी बाप समान दिव्य और अलौकिक कर्म करने हैं। डबल आहिंसक बन योगबल से
अपने विकर्म विनाश करने हैं।

वरदान:- शुद्ध संकल्पों के घेराव द्वारा सेफ्टी का अनुभव करने और कराने
वाले शक्तिशाली आत्मा भव

शक्तिशाली आत्मा वह है जो दृढ़ता की शक्ति द्वारा सेकण्ड से भी कम समय में
व्यर्थ को समाप्त कर दे। शुद्ध संकल्प की शक्ति को पहचानो, एक शुद्ध वा
शक्तिशाली संकल्प बहुत कमाल कर सकता है। सिर्फ कोई भी दृढ़ संकल्प करो तो
दृढ़ता सफलता को लायेगी। सबके लिए शुद्ध संकल्पों का बंधन, घेराव ऐसा
बांधो जो कोई थोड़ा कमजोर भी हो, उनके लिए भी यह घेराव एक छत्रछाया बन
जाए, सेफ्टी का साधन वा किला बन जाए।

स्लोगन:-        सबसे श्रेष्ठ भाग्य उनका है जिन्हें डायरेक्ट भगवान द्वारा
पालना, पढ़ाई और श्रेष्ठ जीवन की श्रीमत मिलती है।

Monday, August 18, 2014

Murli-(18-08-2014)-Hindi

मुरली सार:- “मीठे बच्चे - यह ब्रह्मा है सतगुरु की दरबार, इस भ्रकुटी में सतगुरू विराजमान हैं, 
वही तुम बच्चों की सद्गति करते हैं’’ 

प्रश्न:- बाप अपने बच्चों को किस गुलामी से छुड़ाने आये हैं? 
उत्तर:- इस समय सभी बच्चे प्रकृति और माया के गुलाम बन गये हैं। बाप अभी इस गुलामी 
से छुड़ाते हैं। अभी माया और प्रकृति दोनों ही तंग करते हैं। कभी तूफान, कभी फैमन है। फिर 
तुम ऐसे मालिक बन जाते हो जो सारी प्रकृति तुम्हारी गुलाम रहती है। माया का वार भी नहीं होता। 

धारणा के लिए मुख्य सार:- 

1) बाप जो सुनाते हैं, वही सुनना है और जज करना है कि राइट क्या है। राइट को ही याद करना है। 
अनराइटियस बात को न सुनना है, न बोलना है, न देखना है। 

2) पढ़ाई अच्छी रीति पढ़कर अपने को राजाओं का राजा बनाना है। इस पुराने शरीर और पुरानी 
दुनिया में अपने को टैम्प्रेरी समझना है। 

वरदान:- विस्मृति की दुनिया से निकल स्मृति स्वरूप रह हीरो पार्ट बजाने वाले विशेष आत्मा भव

यह संगमयुग स्मृति का युग है और कलियुग विस्मृति का युग है। आप सब विस्मृति की 
दुनिया से निकल आये। जो स्मृति स्वरूप हैं वही हीरो पार्ट बजाने वाली विशेष आत्मा हैं। 
इस समय डबल हीरो हो, एक हीरे समान वैल्युबुल बने हो दूसरा हीरो पार्ट है। तो यही दिल 
का गीत सदा बजता रहे कि वाह मेरा श्रेष्ठ भाग्य। जैसे देह का आक्यूपेशन याद रहता है, 
ऐसे ये अविनाशी आक्यूपेशन कि “मैं श्रेष्ठ आत्मा हूँ” याद रहे तब कहेंगे विशेष आत्मा। 

स्लोगन:- हिम्मत का पहला कदम आगे बढ़ाओ तो बाप की सम्पूर्ण मदद मिलेगी।