Tuesday, February 9, 2016

Murli 10 February 2016

10/02/16 Morning Murli Om Shanti BapDada Madhuban

God Shiva speaks: Sweet children, remember Me and love Me because only I come to make you constantly happy.   
Question:
What words automatically emerge through the lips of the children who continue to be careless?
Answer:
I will receive whatever is in my fortune! I will definitely go to heaven in any case! Baba says: These are not the words of effort-making children. You have to make effort to claim a high status. Since the Father has come to give you a high status, don't be careless!
Song:
Don't forget the days of your childhood.   
Om Shanti
Sweetest spiritual children, you understood the meaning of that line of the song. You will now belong to the Father for as long as you live. You belong to limited fathers throughout the cycle. Now, you Brahmin children only belong to the unlimited Father. You understand that you are receiving your unlimited inheritance from the unlimited Father. If you leave the Father, you aren't able to receive your unlimited inheritance. Although you explain, no one is content with just a little. People want wealth. There cannot be happiness without wealth. Wealth is needed, peace is needed and a disease-free body is needed. Only you children know what there is in the world today and what is going to happen tomorrow. Destruction is just ahead. These things are not in the intellect of anyone else. Even if they do understand that destruction is just ahead, they don't understand what they therefore have to do. Only you children understand that war can take place at any time. If there is just a little spark (of war), it won't take long for the fire to spread wildly. You children understand that this old world is about to be destroyed and that you therefore have to claim your inheritance quickly from the Father. When you constantly continue to remember the Father, you remain very cheerful. By becoming body conscious, you forget the Father and take sorrow upon yourself. The more you remember the Father, the more happiness you will receive from the unlimited Father. You have come here to become like Lakshmi and Narayan. There is a lot of difference between becoming the maids and servants of a king and queen and the maids and servants of subjects. The effort you make now becomes fixed for all time for every cycle. At the end, everyone will have visions of how much effort they made. The Father even now continues to tell you to check your stage. How much do I remember the sweetest Baba from whom I receive the inheritance of heaven? Everything of yours depends on remembrance. The more you stay in remembrance, the happier you will remain. You will then understand that you have come very close. Some become very tired and wonder how far away the destination still is. If they reach their destination, the effort they made will have been worthwhile. The world doesn’t know about the destination you are going to. The world doesn’t even know the One who is called God. They speak of God and then say that He is in the pebbles and stones. You children now know that you belong to the Father. You now have to follow the Father's directions. Although you may be living abroad, you still have to remember the Father. You are receiving shrimat. A soul cannot become satopradhan from tamopradhan without having remembrance. You say: Baba, I will claim the full inheritance from You. Just as our Mama and Baba claim their inheritance, I will also make effort and definitely sit on their throne. Mama and Baba become the prince and princess and I will also become that. The examination is the same for everyone. You are taught very little: Simply remember the one Father! This is known as the power of easy Raja Yoga. You understand that you receive a lot of strength through remembrance. You do understand that if you perform any sinful actions, a lot of punishment has to be experienced and that the status is destroyed. It is in your remembrance that Maya creates obstacles. It is remembered that those who defame the Satguru cannot reach their destination. Those people say: Those who defame the guru… No one understands about the incorporeal One. It is remembered that only God gives devotees the fruit of their devotion. Sages and holy men etc. are all devotees. Devotees go to bathe in the Ganges. Devotees cannot give devotees any fruit. If devotees could give the fruit to devotees, why would they remember God? That is the path of devotion. All are devotees. Only God gives devotees their fruit. It isn't that those who do a lot of worship etc. give fruit to those who do a little worship. No! Devotion means devotion! How could they give an inheritance to the creation? An inheritance is only received from the Creator. At this time all are devotees. When you receive knowledge, you automatically stop performing devotion. There is victory for knowledge. Without knowledge, how could there be salvation? All settle their karmic accounts and go back. You children now understand that destruction is standing just ahead. Make effort before that and claim your full inheritance from the Father! You know that you are going to the pure world. Those who become Brahmins will become instruments. You cannot receive your inheritance from the Father without becoming a Brahmin, a mouth-born creation of Brahma. A father creates children in order to give them an inheritance. You belong to Shiv Baba anyway. He creates the world in order to give you children an inheritance. He gives the inheritance to bodily beings. Souls reside up above. There is no question of an inheritance or a reward there. You are now making effort and receiving your reward; the world doesn't know anything about this. The time is now coming close. The bombs have not been made just to be stored. Many preparations are being made. The Father is now ordering us: Remember Me! Otherwise, you will have to cry a great deal at the end. When someone fails an examination for a higher education, he goes and drowns himself out of anger. There is no question of anger here. At the end, you will have many visions. You will also know what you will become. The Father's duty is to inspire you to make effort. Children say: Baba, we forget to have remembrance while performing actions. Some say that they have no time for remembrance. Baba would then say: In that case, make time to sit in remembrance. Remember the Father. When you meet one another, remind each other to try and remember Baba. By sitting together you will be able to stay in remembrance very well; you will receive help. The main thing is to remember the Father. Even someone who goes abroad simply has to remember one thing: It is only by having remembrance of the Father that you will become satopradhan from tamopradhan. The Father says: Simply remember one thing; just remember the Father. All the sins will be burnt away with the power of yoga. The Father says: Manmanabhav! Remember Me and you will become the masters of the world. The main thing is remembrance. There is no question of going anywhere. Stay at home and simply remember the Father. If you don’t become pure, you won't be able to stay in remembrance. Not everyone will come and study in class. They simply take a mantra and then go wherever they want. The Father has already shown you the way to become satopradhan. In fact, when you go to your centre, you hear many new points. If, for some reason, you are unable to go, if there is heavy rain or a curfew and no one is able to go out, what would you do? The Father says: It doesn't matter! It isn't that you can offer water and milk to the image of Shiva in only a temple. Wherever you are, stay in remembrance! Stay in remembrance while walking and moving around. Tell others: By remembering the Father, your sins will be absolved and you will become deities. There are just the two words. You have to claim your inheritance from the Father, the Creator. The Creator is only One. He is showing you such an easy path! You have been given the mantra of remembering the Father. The Father says: Don't forget the days of this childhood! Today, you are laughing, but, tomorrow, if you forget the Father, you will have to cry. You should claim your full inheritance from the Father. There are many who say that they will definitely go to heaven, that they will receive whatever is in their fortune! Such ones are not called effort-makers. People make effort to claim a high status. Now that you can receive a high status from the Father, why should you be careless? If you don't study at school, you will have to bow down in front of those who have studied. Those who don't remember the Father fully will become the maids and servants of the subjects. You shouldn't be happy with that. Children come here personally and go back having become refreshed. There are many in bondage; it doesn't matter because they can remember the Father while sitting at home. Baba explains so much that death is just ahead and that the war will begin suddenly. It can be seen when a war is about to begin. You can know everything through the radio. They threaten one another: If you do anything wrong, we will do this. They give an advance warning in this way. They have a lot of arrogance of their bombs. The Father says: Children haven't become that clever with the power of yoga. According to the drama, it isn't that the war will begin just like that. Children haven't yet claimed their full inheritance. The whole kingdom hasn't yet been established. A little more time is needed. Baba inspires you to make effort. You never know when something will happen: aeroplanes crash, trains crash! Death is standing ahead so easily. There are earth tremors. Earthquakes have to do the most work. Only when the earth shakes do the buildings etc. fall. Claim your full inheritance before death comes! Therefore, remember the Father with a lot of love. Baba, I have no one else, only You! Simply continue to remember the Father. Baba sits here and explains as easily as you would explain to little children. He doesn’t give you any other difficulty. Simply remember Him. By sitting on the pyre of lust, you have become burnt. Now sit on the pyre of knowledge and become pure! When people ask you what your aim is, tell them: Shiv Baba, who is the Father of all, says: Constantly remember Me alone and your sins will be absolved and you will become satopradhan from tamopradhan. In the iron age, all are tamopradhan. The one Father alone is the Bestower of Salvation for All. The Father says: Now, simply remember Me and the rust will be removed. You can at least give this message! Only when you yourself stay in remembrance will you be able to remind others of this. When you yourself stay in remembrance, you will be very keen to tell others. Otherwise, it will not be from your heart. The Father explains: Wherever you are, stay in remembrance for as long as you can. Whomever you meet, give them this advice: Death is just ahead! The Father says: All of you have become tamopradhan and impure. Now remember Me and become pure! It is the soul that has become impure. In the golden age souls are pure. The Father says: Only by having remembrance do souls become pure; there is no other way. Continue to give this message to everyone and many will benefit. Baba doesn't give you any other difficulty. Only the Purifier Father purifies all souls. The Father makes everyone into the most elevated beings. Those who were worthy of worship have become worshippers. We become worshippers in the kingdom of Ravan. In the kingdom of Rama we are worthy of worship. It is now the end of the kingdom of Ravan. From being worshippers we are now becoming worthy of worship by remembering the Father. Show this path to others too. Even the old mothers should do service. Give this message to your friends and relatives. There are many types of spiritual gathering, temple etc. Yours is just the one type. Simply give the Father's introduction. Shiv Baba says: Constantly remember Me alone and you will become the masters of heaven. Incorporeal Shiv Baba, the Bestower of Salvation for All, says to souls: Remember Me and, from tamopradhan, you will become satopradhan. It is easy to explain this, is it not? Even the old mothers can do service. This is the main thing. When you go to weddings etc., whisper this in their ears. The God of the Gita says: Remember Me! Everyone will like this. There is no need to say any more. Simply give the Father's message: Remember Me! Achcha, just think that God is giving you inspiration! You have visions in your dreams. You can hear the voice. The Father says: Remember Me and you will become satopradhan from tamopradhan. You should also simply just continue to think about this and your boat will go across. We now belong to the unlimited Father in a practical way and we are receiving our inheritance of 21 births from the Father. So, there should be that happiness. It is only when you forget the Father that there is difficulty. The Father tells you so easily: Consider yourself to be a soul and remember the Father and the soul will become satopradhan. Everyone will think that you have truly found the right path. No one else can show you this path. If sages etc. told you to remember Shiv Baba, who would go to them? The time will come when you won't be able to go out of your homes. You will leave your bodies while remembering the Father. Those who remember Shiv Baba in their final moments will go into the clan of Narayan; they will go into the dynasty of Lakshmi and Narayan. They will claim a royal status over and over again. That’s all! Simply remember the Father and love Him! How can you love Him without remembering Him? It is only when you receive happiness that you love Him. You wouldn't love someone who causes you sorrow. The Father says: I make you into the masters of heaven. Therefore, love Me! You should follow the Father's directions. Achcha.



To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.
Essence for Dharna:
1. In order to remain happy, make effort to stay in remembrance. The power of yoga makes the soul satopradhan. Remember the one Father with a lot of love.
2. In order to claim a high status, pay full attention to the study. Don't think that you will receive whatever is in your fortune. Stop being careless and claim a right to your full inheritance.
Blessing:
May you make your spiritual endeavour your support while using the facilities and become an embodiment of success.   
While seeing any attractive scenes of the old world or using the facilities of the old world which give temporary happiness, you become influenced by them. Spiritual endeavour based on the facilities is like a building built on a foundation of sand. Therefore, let your spiritual endeavour not be based on any perishable facilities. The facilities are only for namesake whereas your spiritual endeavour is the foundation for renewal and construction. Therefore, give importance to spiritual endeavour for it will enable you to achieve success.
Slogan:
If there is the slightest trace of any weakness, a progeny will definitely grow from that and make you dependant.   
 

मुरली 10 फरवरी 2016

10-02-16 प्रातः मुरली ओम् शान्ति “बापदादा” मधुबन

“शिव भगवानुवाच– मीठे बच्चे, तुम मुझे याद करो और प्यार करो क्योंकि मैं ही तुम्हें सदा सुखी बनाने आया हूँ|”  
प्रश्न:
जिन बच्चों से गफलत होती रहती है उनके मुख से कौन से बोल स्वतः निकल जाते हैं?
उत्तर:
तकदीर में जो होगा वह मिल जायेगा। स्वर्ग में तो जायेंगे ही। बाबा कहते यह बोल पुरुषार्थी बच्चों के नहीं। ऊंच मर्तबा पाने का ही पुरुषार्थ करना है। जब बाप आये हैं ऊंच मर्तबा देने तो ग़फलत मत करो।
गीतः
बचपन के दिन भुला न देना........  
ओम् शान्ति।
मीठे-मीठे रूहानी बच्चों ने गीत की लाइन का अर्थ समझा। अभी जीते जी तुम बेहद के बाप के बने हो। सारा कल्प तो हद के बाप के बने हो। अभी सिर्फ तुम ब्राह्मण बच्चे बेहद बाप के बने हो। तुम जानते हो बेहद के बाप से हम बेहद का वर्सा ले रहे हैं। अगर बाप को छोड़ा तो बेहद का वर्सा मिल नहीं सकेगा। भल तुम समझाते हो परन्तु थोड़े में तो कोई राज़ी नहीं होता। मनुष्य धन चाहते हैं। धन के सिवाए सुख नहीं हो सकता। धन भी चाहिए, शान्ति भी चाहिए, निरोगी काया भी चाहिए। तुम बच्चे ही जानते हो दुनिया में आज क्या है, कल क्या होना है। विनाश तो सामने खड़ा है। और कोई की बुद्धि में यह बातें नहीं हैं। अगर समझें भी विनाश खड़ा है, तो भी करना क्या है, यह नहीं समझते। तुम बच्चे समझते हो कभी भी लड़ाई लग सकती है, थोड़ी चिनगारी लगी तो भंभट मच जाने में देरी नहीं लगेगी। बच्चे जानते हैं यह पुरानी दुनिया खत्म हुई कि हुई इसलिए अब जल्दी ही बाप से वर्सा लेना है। बाप को सदैव याद करते रहेंगे तो बहुत हर्षित रहेंगे। देह-अभिमान में आने से बाप को भूल दुःख उठाते हो। जितना बाप को याद करेंगे उतना बेहद के बाप से सुख उठायेंगे। यहाँ तुम आये ही हो ऐसा लक्ष्मी-नारायण बनने। राजा-रानी का और प्रजा का नौकर चाकर बनना– इसमें बहुत फ़र्क है ना। अभी का पुरुषार्थ फिर कल्प-कल्पान्तर के लिए कायम हो जाता है। पिछाड़ी में सबको साक्षात्कार होगा– हमने कितना पुरुषार्थ किया है? अब भी बाप कहते हैं अपनी अवस्था को देखते रहो। मीठे ते मीठा बाबा जिससे स्वर्ग का वर्सा मिलता है, उनको हम कितना याद करते हैं। तुम्हारा सारा मदार ही याद पर है। जितना याद करेंगे उतना खुशी भी रहेगी। समझेंगे अब नज़दीक आकर पहुँचे हैं। कोई थक भी जाते हैं, पता नहीं मंजिल कितना दूर है। पहुँचे तो मेहनत भी सफल हो। अभी जिस मंजिल पर तुम जा रहे हो, दुनिया नहीं जानती है। दुनिया को यह भी पता नहीं कि भगवान किसको कहा जाता है। कहते भी हैं भगवान। फिर कह देते ठिक्कर-भित्तर में है।

अभी तुम बच्चे जानते हो हम बाप के बन चुके हैं। अब बाप की ही मत पर चलना है। भल विलायत में हो, वहाँ रहते भी सिर्फ बाप को याद करना है। तुमको श्रीमत मिलती है। आत्मा तमोप्रधान से सतोप्रधान सिवाए याद के हो न सके। तुम कहते हो बाबा हम आपसे पूरा वर्सा लेंगे। जैसे हमारे मम्मा बाबा वर्सा लेते हैं, हम भी पुरुषार्थ कर उनकी गद्दी पर जरूर बैठेंगे। मम्मा बाबा, राज-राजेश्वरी बनते हैं तो हम भी बनेंगे। इम्तहान तो सबके लिए एक ही है। तुमको बहुत थोड़ा सिखाया जाता है सिर्फ बाप को याद करो। इसको कहा जाता है सहज राजयोग बल। तुम समझते हो योग से बहुत बल मिलता है। समझते हैं हम कोई विकर्म करेंगे तो सज़ा बहुत खायेंगे। पद भ्रष्ट हो पड़ेंगे। याद में ही माया विघ्न डालती है, गाया जाता है सतगुरू का निंदक ठौर न पाये। वह तो कहते गुरू का निंदक..... निराकार का किसको पता नहीं है। गाया भी जाता है भक्तों को फल देने वाला है भगवान। साधू-सन्त आदि सब भक्त हैं। भक्त ही गंगा स्नान करने जाते हैं। भक्त भक्तों को फल थोड़ेही देंगे। भक्त भक्तों को फल दें तो फिर भगवान को याद क्यों करें। यह है ही भक्ति मार्ग। सब भक्त हैं। भक्तों को फल देने वाला है भगवान। ऐसे नहीं कि जास्ती भक्ति करने वाले थोड़ी भक्ति करने वाले को फल देंगे। नहीं। भक्ति माना भक्ति। रचना, रचना को कैसे वर्सा देंगे! वर्सा रचयिता से ही मिलता है। इस समय सब हैं भक्त। जब ज्ञान मिलता है तो फिर भक्ति खुद ब खुद छूट जाती है। ज्ञान जिंदाबाद हो जाता है। ज्ञान बिगर सद्गति कैसे होगी। सब अपना हिसाबकिताब चुक्तू कर चले जाते हैं। तो अब तुम बच्चे जानते हो विनाश सामने खड़ा है। उसके पहले पुरुषार्थ कर बाप से पूरा वर्सा लेना है।

तुम जानते हो हम पावन दुनिया में जा रहे हैं, जो ब्राह्मण बनेंगे वही निमित्त बनेंगे। ब्रह्मा मुख वंशावली ब्राह्मण बनने के बिगर तुम बाप से वर्सा ले नहीं सकते। बाप बच्चों को रचते ही हैं वर्सा देने के लिए। शिवबाबा के तो हम हैं ही। सृष्टि रचते हैं बच्चों को वर्सा देने लिए। शरीरधारी को ही वर्सा देंगे ना। आत्मायें तो ऊपर में रहती हैं। वहाँ तो वर्से वा प्रालब्ध की बात ही नहीं। तुम अभी पुरुषार्थ कर प्रालब्ध ले रहे हो, जो दुनिया को पता नहीं है। अब समय नज़दीक आता जा रहा है। बॉम्ब्स कोई रखने के लिए नहीं हैं। तैयारियाँ बहुत हो रही हैं। अभी बाप हमको फरमान करते हैं कि मुझे याद करो। नहीं तो पिछाड़ी में बहुत रोना पड़ेगा। राज-विद्या के इम्तहान में कोई नापास होते हैं तो जाकर डूब मरते हैं गुस्से में। यहाँ गुस्से की तो बात नहीं। पिछाड़ी में तुमको साक्षात्कार बहुत होंगे। क्या-क्या हम बनेंगे वह भी पता पड़ जायेगा। बाप का काम है पुरुषार्थ कराना। बच्चे कहते हैं बाबा हम कर्म करते हुए याद करना भूल जाते हैं, कोई फिर कहते हैं याद करने की फुर्सत नहीं मिलती है, तो बाबा कहेंगे अच्छा समय निकालकर याद में बैठो। बाप को याद करो। आपस में जब मिलते हो तो भी यही कोशिश करो, हम बाबा को याद करें। मिलकर बैठने से तुम याद अच्छा करेंगे, मदद मिलेगी। मूल बात है बाप को याद करना। कोई विलायत जाते हैं, वहाँ भी सिर्फ एक बात याद रखो। बाप की याद से ही तुम तमोप्रधान से सतोप्रधान बनेंगे। बाप कहते हैं सिर्फ एक बात याद करो– बाप को याद करो। योगबल से सब पाप भस्म हो जायेंगे। बाप कहते हैं मनमनाभव। मुझे याद करो तो विश्व का मालिक बनेंगे। मूल बात हो जाती है याद की। कहाँ भी जाने की बात नहीं। घर में रहो, सिर्फ बाप को याद करो। पवित्र नहीं बनेंगे तो याद नहीं कर सकेंगे। ऐसे थोड़ेही है सब आकर क्लास में पढ़ेंगे। मंत्र लिया फिर भल कहाँ भी चले जाओ। सतोप्रधान बनने का रास्ता तो बाप ने बतलाया ही है। यूँ तो सेन्टर पर आने से नई-नई प्वाइंट्स सुनते रहेंगे। अगर किसी कारण से नहीं आ सकते हैं, बरसात पड़ती है, करफ्यू लगता है, कोई बाहर नहीं निकल सकते फिर क्या करेंगे? बाप कहते हैं कोई हर्जा नहीं है। ऐसे नहीं है कि शिव के मन्दिर में लोटी चढानी ही पड़ेगी। कहाँ भी रहते तुम याद में रहो। चलते फिरते याद करो, औरों को भी यही कहो कि बाप को याद करने से विकर्म विनाश होंगे और देवता बन जायेंगे। अक्षर ही दो हैं– बाप रचता से ही वर्सा लेना है। रचता एक ही है। वह कितना सहज रास्ता बताते हैं। बाप को याद करने का मंत्र मिल गया। बाप कहते हैं यह बचपन भूल नहीं जाना। आज हंसते हो कल रोना पड़ेगा, अगर बाप को भुलाया तो। बाप से वर्सा पूरा लेना चाहिए। ऐसे बहुत हैं, कहते हैं स्वर्ग में तो जायेंगे ना, जो तकदीर में होगा.. उनको कोई पुरुषार्थी नहीं कहेंगे। मनुष्य पुरुषार्थ करते ही हैं ऊंच मर्तबा पाने लिए। अब जबकि बाप से ऊंच मर्तबा मिलता है तो ग़फलत क्यों करनी चाहिए। स्कूल में जो नहीं पढ़ेंगे तो पढ़े के आगे भरी ढोनी पड़ेगी। बाप को पूरा याद नहीं करेंगे तो प्रजा में नौकर-चाकर जाकर बनेंगे, इसमें खुश थोड़ेही होना चाहिए। बच्चे सम्मुख रिफ्रेश होकर जाते हैं। कई बांधेलियाँ हैं, हर्जा नहीं, घर बैठे बाप को याद करती रहो। कितना समझाते हैं मौत सामने खड़ा है, अचानक ही लड़ाई शुरू हो जायेगी। देखने में आता है लड़ाई जैसेकि छिड़ी कि छिड़ी। रेडियों से भी सारा मालूम पड़ जाता है। कहते हैं थोड़ा भी गड़बड़ किया तो हम ऐसा करेंगे। पहले से ही कह देते हैं। बॉम्ब्स की मगरूरी बहुत है। बाप भी कहते हैं बच्चे अजुन योगबल में तो होशियार हुए नहीं हैं। लड़ाई लग जाए, ऐसे ड्रामा अनुसार होगा ही नहीं। बच्चों ने पूरा वर्सा ही नहीं लिया है। अभी पूरी राजधानी स्थापन हुई नहीं है। थोड़ा टाइम चाहिए। पुरुषार्थ कराते रहते हैं। पता नहीं किस समय भी कुछ हो जाये, एरोप्लेन, ट्रेन गिर पड़ती। मौत कितना सहज खड़ा है। धरती हिलती रहती है। सबसे जास्ती काम करना है अर्थक्वेक को। यह हिले तब तो सारे मकान आदि गिरें। मौत होने के पहले बाप से पूरा वर्सा लेना है इसलिए बहुत प्रेम से बाप को याद करना है। बाबा आपके बिगर हमारा दूसरा कोई नहीं। सिर्फ बाप को याद करते रहो। कितना सहज रीति जैसे छोटे-छोटे बच्चों को बैठ समझाते हैं। और कोई तकलीफ नहीं देता हूँ, सिर्फ याद करो और काम चिता पर बैठ जो तुम जल मरे हो अब ज्ञान चिता पर बैठ पवित्र बनो। तुमसे पूछते हैं आपका उद्देश्य क्या है? बोलो, शिवबाबा जो सबका बाप है वह कहते हैं मामेकम् याद करो तो तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे और तुम तमोप्रधान से सतोप्रधान बन जायेंगे। कलियुग में सब तमोप्रधान हैं। सर्व का सद्गति दाता एक बाप है।

अब बाप कहते हैं सिर्फ मुझे याद करो तो कट उतर जायेगी। यह इतना पैगाम तो दे सकते हो ना। खुद याद करेंगे तब दूसरे को याद करा सकेंगे। खुद याद करते होंगे तो दूसरे को रूचि से कहेंगे, नहीं तो दिल से नहीं निकलेगा। बाप समझाते हैं कहाँ भी हो जितना हो सके, सिर्फ याद करो। जो मिले उनको यही शिक्षा दो– मौत सामने खड़ा है। बाप कहते हैं तुम सब तमोप्रधान पतित बन पड़े हो। अब मुझे याद करो, पवित्र बनो। आत्मा ही पतित बनी है। सतयुग में होती है पावन आत्मा। बाप कहते हैं याद से ही आत्मा पावन बनेगी, और कोई उपाय नहीं है। यह पैगाम सबको देते जाओ तो भी बहुतों का कल्याण करेंगे और कोई तकलीफ नहीं देते। सब आत्माओं को पावन बनाने वाला पतित-पावन बाप ही है। सबसे उत्तम से उत्तम पुरुष बनाने वाला है बाप। जो पूज्य थे वही फिर पुजारी बने हैं। रावण राज्य में हम पुजारी बने हैं, रामराज्य में पूज्य थे। अब रावण राज्य का अन्त है, हम पुजारी से फिर पूज्य बनते हैं– बाप को याद करने से। औरों को भी रास्ता बताना है, बुढ़ियों को भी सर्विस करनी चाहिए। मित्र-सम्बन्धियों को भी सन्देश दो। सतसंग, मन्दिर आदि भी अनेक प्रकार के हैं। तुम्हारा तो है एक प्रकार। सिर्फ बाप का परिचय देना है। शिवबाबा कहते हैं मामेकम् याद करो तो तुम स्वर्ग का मालिक बनेंगे। निराकार शिवबाबा सर्व का सद्गति दाता बाबा आत्माओं को कहते हैं मुझे याद करो तो तुम तमोप्रधान से सतोप्रधान बन जायेंगे। यह तो सहज है ना समझाना। बुढ़िया भी सर्विस कर सकती हैं। मूल बात ही यह है। शादी मुरादी पर कहाँ भी जाओ, कान में यह बात सुनाओ। गीता का भगवान कहते हैं मुझे याद करो। इस बात को सभी पसन्द करेंगे। जास्ती बोलने की दरकार ही नहीं है। सिर्फ बाप का पैगाम देना है कि बाप कहते हैं मुझे याद करो। अच्छा, ऐसे समझो भगवान प्रेरणा करते हैं। स्वप्न में साक्षात्कार होते हैं। आवाज़ सुनने में आता है कि बाप कहते हैं मुझे याद करो तो तुम तमोप्रधान से सतोप्रधान बन जायेंगे। तुम खुद भी सिर्फ यह चिंतन करते रहो तो बेड़ा पार हो जायेगा। हम प्रैक्टिकल में बेहद के बाप के बने हैं और बाप से 21 जन्मों का वर्सा ले रहे हैं तो खुशी रहनी चाहिए। बाप को भूलने से ही तकलीफ होती है। बाप कितना सहज बतलाते हैं अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो तो आत्मा सतोप्रधान बन जायेगी। सब समझेंगे इन्हों को रास्ता तो बरोबर राइट मिला है। यह रास्ता कभी कोई बता न सके। अगर वह कहें शिवबाबा को याद करो तो फिर साधुओं आदि के पास कौन जायेंगे। समय ऐसा होगा जो तुम घर से बाहर भी नहीं निकल सकेंगे। बाप को याद करते-करते शरीर छोड़ देंगे। अन्तकाल जो शिवबाबा सिमरे...... सो फिर नारायण योनि वल-वल उतरे, लक्ष्मी-नारायण की डिनायस्टी में आयेंगे ना। घड़ी-घड़ी राजाई पद पायेंगे। बस सिर्फ बाप को याद करो और प्यार करो। याद बिगर प्यार कैसे करेंगे। सुख मिलता है तब प्यार किया जाता है। दुःख देने वाले को प्यार नहीं किया जाता। बाप कहते हैं मैं तुमको स्वर्ग का मालिक बनाता हूँ इसलिए मुझे प्यार करो। बाप की मत पर चलना चाहिए ना। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।
धारणा के लिए मुख्य सार:
1) खुशी में रहने के लिए याद की मेहनत करनी है। याद का बल आत्मा को सतोप्रधान बनाने वाला है। प्यार से एक बाप को याद करना है।
2) ऊंच मर्तबा पाने के लिए पढाई पर पूरा-पूरा ध्यान देना है। ऐसे नहीं जो तकदीर में होगा, ग़फलत छोड़ पूरा वर्से का अधिकारी बनना है।
वरदान:
साधनों को यूज़ करते हुए साधना को अपना आधार बनाने वाले सिद्धि स्वरूप भव!  
कोई भी पुरानी दुनिया के आकर्षणमय दृश्य, अल्पकाल के सुख के साधन यूज़ करते वा देखते हो तो उन साधनों के वशीभूत हो जाते हो। साधनों के आधार पर साधना ऐसे है जैसे रेत के फाउण्डेशन पर बिल्डिंग इसलिए किसी भी विनाशी साधन के आधार पर अविनाशी साधना न हो। साधन निमित्तमात्र हैं और साधना निर्माण का आधार है इसलिए साधना को महत्व दो तो साधना सिद्धि को प्राप्त करायेगी।
स्लोगन:
किसी भी कमजोरी का अंश है तो वंश पैदा हो जायेगा और परवश बना देगा।   
 

Monday, February 8, 2016

Murli 09 February 2016

09/02/16 Morning Murli Om Shanti BapDada Madhuban

Sweet children, it is your great fortune if your intellects are able to have constant remembrance of only the Father.  
Question:
What are the signs of the children who are interested in doing service?
Answer:
They are unable to remain without relating knowledge. They sacrifice their bones for spiritual service. They have great happiness in explaining spiritual knowledge. They continue to dance in happiness. They have a lot of regard for those who are senior to them and continue to learn from them.
Song:
Although the world may change, we will never turn away from You.
Om Shanti
You children heard two lines of the song. This song is about a promise. It is like a couple who become engaged and make a promise that they will never leave each other. Some do not get along with each other and so they part. Whom do you children make a promise to here? To God; to the One to whom you children, you brides, have become engaged. However, you also do leave the One who makes you into the masters of the world. Now, when you children are sitting here, you understand that unlimited BapDada is about to come. You cannot have the same stage at your centres outside as you do when you are here. Here, you understand that BapDada is about to come. Outside, at your centres, you understand that you are about to hear the murli Baba has spoken. There is a lot of difference between here and there, because here, you are sitting personally in front of unlimited BapDada. There, you are not in front of Baba, but you have the desire to come and listen to the murli directly, face to face. Here, the intellects of you children become aware that Baba is about to come, just as in other spiritual gatherings they understand that their swami (teacher) is about to come. However, not everyone would have the same thought. The intellects’ yoga of some would be wandering elsewhere. Some would be remembering their husbands and some would be remembering their relatives. Their intellects’ yoga would not be focused on the one guru. Scarcely anyone would be able to stay in remembrance of the swami. It is the same here. It is not that all stay in remembrance of Shiv Baba. Their intellects keep racing elsewhere; relatives etc. would be remembered. You are greatly fortunate if you are able to stay in remembrance of Shiv Baba all the time. Only a few rare ones are able to stay in remembrance constantly. You should have a lot of happiness while being in front of the Father. The saying “Ask the gopes and gopis of Gopi Vallabh (Father of gopes and gopis) about supersensuous joy” is remembered of this time. You are sitting here in remembrance of the Father. You understand that you are now sitting in God’s lap and that you will later be in the laps of the deities. The intellects of some children have thoughts of service about how to make a correction to a picture or what to write on it. However, good children understand that they now have to listen to the Father. They do not allow any other thoughts to emerge. The Father has come to fill your aprons with jewels of knowledge. Therefore, you have to keep your intellects in yoga with the Father. All are numberwise in imbibing this. Some listen well and imbibe it, whereas others imbibe to a lesser extent. If the intellect’s yoga is elsewhere, then it is not possible to imbibe; they remain weak. If you do not imbibe the murli after hearing it once or twice, that habit becomes firm. Then, no matter how much you listen, you won’t be able to imbibe. You won’t be able to relate this knowledge to others. Those who do imbibe this will be interested in doing service; they become very enthusiastic. They think that they should go and donate wealth, because no one but the Father has this wealth. The Father also understands that not everyone can imbibe this that not everyone can claim the same high status. That is why their intellects continue to wander elsewhere. Their future fortune doesn't become as elevated. Some sacrifice their bones in physical service; they make everyone happy. For instance, they cook and serve food to people. That too is a subject. Those who are interested in doing service will not be able to stay without relating knowledge. Then Baba sees whether they have body consciousness. Do they have regard for the seniors or not? You should have regard for the senior maharathis. Yes, when the intellects of some young clever ones gallop quickly, the maharathis have to give them regard. The Father is pleased when He sees that you are interested in doing service: This one will do good service. You should practise explaining at the exhibitions all day. A lot of subjects are created. There is no other way. The sun and moon dynasty kings and queens and the subjects are all created here. You should do so much service! It is in the intellects of you children that you have now become Brahmins. While living at home with your family, each of you has your own stage. You do not have to leave your household. The Father says: You may live at home, but keep the faith in your intellect that the old world is about to be destroyed. Our only connection is with the Father. You also understand that only those who took this knowledge a cycle ago will take it again. Everything is repeating identically, second by second. The soul has knowledge, does it not? The Father also has knowledge. You children have to become like the Father. You also have to imbibe the points. Not all the points are explained at the same time. Destruction is standing in front of you. It is that same destruction. There are no wars in the golden and silver ages. It is only when many religions emerge and armies are created that war starts. When souls first descend, they are satopradhan and then they go through the sato, rajo and tamo stages. It should remain in your intellects how this kingdom is being established. While you are sitting here you should be aware that Shiv Baba comes and gives you treasures which your intellects have to imbibe. Good children take notes. It is good to write them down and topics will then emerge in your intellects. Today, I will explain about this topic. The Father says: I gave you so many treasures. You had so much wealth in the golden and silver ages. When you go onto the path of sin, it decreases. Your happiness also decreases. You start performing one vicious action or another. As you descend, your degrees continue to reduce; you pass through the stages of satopradhan, sato, rajo and tamo. When you are going from sato to rajo, it isn't that you go into that stage immediately; you descend very slowly. Even in the tamopradhan stage, you descend the ladder very slowly and your degrees continue to reduce. Day by day, they continue to reduce. You now have to take a jump. From tamopradhan you have to become satopradhan. You need time for this. It is sung that those who climb up are able to taste the nectar of heaven. If you are slapped by the vice of lust, you are completely crushed; your bones are completely broken. Some human beings commit suicide. It is not called suicide of the soul, but suicide of the living body. Here, you have to claim your inheritance from the Father. You have to remember the Father, because you receive the sovereignty from him. Ask yourself: How much income have I accumulated for the future by having remembrance of the Father? To what extent have I become a stick for the blind? You have to give the message from house to house that this old world is to change. The Father is teaching you Raja Yoga for the new world. Everything is shown in the ladder. This picture is difficult to make. You have thoughts all day about how to design the picture in such a way that anyone can easily understand it. The whole world will not come here; only those of the deity religion will come. Your service has to continue for a long time. You know for how long this class of yours will continue. They believe that the duration of the cycle is hundreds of thousands of years and they therefore continue to relate the scriptures. They believe that the Bestower of Salvation for All will come at the end, that their followers will receive salvation and that they will then merge into the light. However, it is not like that. You know that we are now listening to the true story of immortality from the immortal Father. Therefore, you have to believe what the immortal Father says. He says: Remember Me and become pure! Otherwise, you will have to experience a lot of punishment; you will receive a low status. You have to make effort for service. There is also the example of Dadichi Rishi. He sacrificed his bones in service. To sacrifice your bones in service means to do service the whole day without thinking of your body. One is physical service with your bones and the other is spiritual service with your bones. Spiritual servers only relate spiritual knowledge. While donating wealth they continue to dance in happiness. All the service that people in the world do is physical service. To relate the scriptures is not called spiritual service. Only the Father comes and teaches spiritual service. The spiritual Father comes and teaches the spiritual children. You children are now making preparations for going to the new golden-aged world. You will not perform any vicious actions there. That is the kingdom of Rama. There are very few there. At the moment, everyone is experiencing sorrow in the kingdom of Ravan. All of this knowledge is in your intellects, numberwise, according to your efforts. All the knowledge is included in the picture of the ladder. The Father says: Remain pure in this last birth of yours and you will become the masters of the pure world! You should explain in such a way that human beings understand that they have become tamopradhan from satopradhan and that the only way to become satopradhan is by staying on the pilgrimage of remembrance. When they see this, their intellects will realise that no one else has this knowledge. When they look at the picture of the ladder they ask where the information about other religions is. All of that is written in the picture of the cycle; they do not go to the new world, they receive peace. It was only the people of Bharat who were in heaven. The Father comes in Bharat to teach Raja Yoga. That is why everyone wants the ancient yoga of Bharat. They will understand from these pictures that there really was only Bharat in the new world. They will understand about their religion. Even though Christ came to establish that religion, he too is at present tamopradhan. This knowledge of the Creator and creation is so vast. You can tell them that we do not need anyone’s money. What would we do with money? Listen to this and also relate it to others. Print these pictures. You have to make use of these pictures. Construct a hall where this knowledge can be related. What would we do by accepting money? This will benefit your household. You just have to make arrangements. Many will come and say that the knowledge of the Creator and creation is very good.

This has to be understood by humans. When people abroad hear this knowledge, they will like it very much; they will become very happy. They will understand that they too should have yoga with the Father in order to have their sins absolved. You have to give everyone the Father’s introduction. They will understand that no one but God can give this knowledge. They do say that God established heaven, but they are unaware of how He comes. They will become happy listening to you and will make effort to learn yoga. They will make effort to become satopradhan from tamopradhan. You should have many thoughts for service. If you reveal your skills in Bharat, Baba will send you abroad; a mission will go. At present, there is still some time left. It won’t take long for the new world to be established. Wherever there is an earthquake, they manage to construct new buildings again in two to three years. When there are many skilled workers, and all the materials are available, it doesn’t take long to build them. How are buildings built abroad? A motor a minute! So, imagine how quickly buildings will be constructed in the golden age. A lot of gold and silver etc. will be available there. You will bring gold, silver and diamonds out of the mines. You are learning all skills. There is so much arrogance of science at the moment. Science will be useful over there. Everything that they have learnt here will be useful for them in their next birth there. At that time the whole world becomes new. The kingdom of Ravan will have been destroyed. Even the five elements will serve you according to the law. Heaven is being created. No calamities occur there. There is no kingdom of Ravan there. Everyone is satopradhan. The best thing is that you children should have a great deal of love for the Father. Imbibe the treasures that the Father gives you and donate them to others. The more you donate, the more you accumulate. How would you imbibe if you do not do service? Your intellect should be used for service. A lot of service can be done. Let there be progress day by day. Let there also be self-progress. Achcha.



To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.
Essence for Dharna:
1. Constantly remain engaged in spiritual service. Dance in happiness while donating the wealth of knowledge. Imbibe knowledge yourself and inspire others to imbibe it.
2. Fill your apron with the treasures of knowledge that the Father gives you. Take notes so that you can explain a topic. Remain enthusiastic about donating the wealth of knowledge.
Blessing:
May you be constantly victorious and make everyone happy by knowing the secrets of everyone’s heart.   
In order to become victorious you have to know the secrets of each one’s heart. Know the secrets of someone’s heart by the sound that emerges from their lips and you can become victorious. However, in order to know the secrets of the heart, you have to be introverted. To the extent that you remain introverted, you will accordingly be able to know the secrets of the heart and make them happy. Only those who make other happy become victorious.
Slogan:
Disinterest is such appropriate land that whatever seed you sow on it, it will definitely become fruitful.  
 

मुरली 09 फरवरी 2016

09-02-16 प्रातः मुरली ओम् शान्ति “बापदादा” मधुबन

“मीठे बच्चे– बुद्धि में स्थाई एक बाप की ही याद रहे तो यह भी अहो सौभाग्य है|”  
प्रश्न:
जिन बच्चों को सर्विस का शौक होगा उनकी निशानी क्या होगी?
उत्तर:
वह मुख से ज्ञान सुनाने बिगर रह नहीं सकते। वह रूहानी सेवा में अपनी हड्डी-हड्डी स्वाहा कर देंगे। उन्हें रूहानी नॉलेज सुनाने में बहुत खुशी होगी। खुशी में ही नाचते रहेंगे। वह अपने से बड़ों का बहुत रिगार्ड रखेंगे, उनसे सीखते रहेंगे।
गीतः
बदल जाए दुनिया........
ओम् शान्ति।
बच्चों ने गीत की दो लाइन सुनी। यह वायदे का गीत है, जैसे कोई की सगाई होती है तो यह वायदा करते हैं कि स्त्री-पुरुष कभी एक-दो को छोड़ेंगे नहीं। कोई की आपस में नहीं बनती है तो छोड़ भी देते हैं। यहाँ तुम बच्चे किसके साथ प्रतिज्ञा करते हो? ईश्वर के साथ। जिसके साथ तुम बच्चों की वा सजनियों की सगाई हुई है। परन्तु ऐसा जो विश्व का मालिक बनाते हैं, उनको भी छोड़ देते हैं। यहाँ तुम बच्चे बैठे हो तुम जानते हो अभी बेहद का बापदादा आया कि आया। यह अवस्था जो तुम्हारी यहाँ रहती है, वह बाहर सेन्टर पर तो रह न सके। यहाँ तुम समझेंगे बापदादा आया कि आया। बाहर सेन्टर पर समझेंगे बाबा की बजाई हुई मुरली आई कि आई। यहाँ और वहाँ में बहुत फ़र्क रहता है क्योंकि यहाँ बेहद के बापदादा के सम्मुख तुम बैठे हो। वहाँ तो सम्मुख नहीं हो। चाहते हैं सम्मुख जाकर मुरली सुनें। यहाँ बच्चों की बुद्धि में आया– बाबा आया कि आया। जैसे और सतसंग होते हैं, वहाँ वो समझेंगे फलाना स्वामी आयेगा। परन्तु यह ख्यालात भी सबकी एकरस नहीं होगी। कइयों का बुद्धियोग तो और तरफ भटकता रहता है। कोई को पति याद आयेगा, कोई को सम्बन्धी याद आयेंगे। बुद्धियोग एक गुरू के साथ भी टिकता नहीं है। कोई बिरला होगा जो स्वामी की याद में बैठा होगा। यहाँ भी ऐसे है। ऐसे नहीं सब शिवबाबा की याद में रहते हैं। बुद्धि कहाँ न कहाँ दौड़ती रहती हैं। मित्र-सम्बन्धी आदि याद आयेंगे। सारा समय एक ही शिवबाबा की याद में रहें फिर तो अहो सौभाग्य। स्थाई याद में कोई विरला रहते हैं। यहाँ बाप के सम्मुख रहने से तो बहुत खुशी होनी चाहिए। अतीन्द्रिय सुख गोपी वल्लभ के गोप गोपियों से पूछो, यह यहाँ का गाया हुआ है। यहाँ तुम बाप की याद में बैठे हो, जानते हो अभी हम ईश्वर की गोद में हैं फिर दैवी गोद में होंगे। भल कोई की बुद्धि में सर्विस के ख्यालात भी चलते हैं। इस चित्र में यह करेक्शन करें, यह लिखें। परन्तु अच्छे बच्चे जो होंगे वह समझेंगे अभी तो बाप से सुनना है। और कोई संकल्प आने नहीं देंगे। बाप ज्ञान रत्नों से झोली भरने आये हैं, तो बाप से ही बुद्धि का योग लगाना है। नम्बरवार धारणा करने वाले तो होते ही हैं। कोई अच्छी रीति सुनकर धारण करते हैं। कोई कम धारण करते हैं। बुद्धियोग और तरफ दौड़ता रहेगा तो धारणा नहीं होगी। कच्चे पड़ जायेंगे। एक-दो बारी मुरली सुनी, धारणा नहीं हुई तो फिर वह आदत पक्की होती जायेगी। फिर कितना भी सुनता रहेगा, धारणा नहीं होगी। किसको सुना नहीं सकेंगे। जिसको धारणा होगी उनको फिर सर्विस का शौक होगा। उछलता रहेगा, सोचेगा कि जाकर धन दान करूँ क्योंकि यह धन एक बाप के सिवाए तो और कोई के पास है नहीं। बाप यह भी जानते हैं, सबको धारणा हो न सके। सब एकरस ऊंच पद पा नहीं सकते इसलिए बुद्धि और तरफ भटकती रहती है। भविष्य तकदीर इतनी ऊंच नहीं बनती है। कोई फिर स्थूल सर्विस में अपनी हड्डी-हड्डी देते हैं। सबको राज़ी करते हैं। जैसे भोजन पकाते खिलाते हैं। यह भी सब्जेक्ट है ना। जिसको सर्विस का शौक होगा वह मुख से कहने बिगर रहेगा नहीं। फिर बाबा देखते भी हैं, देह-अभिमान तो नहीं है? बड़ों का रिगार्ड रखते हैं वा नहीं? बड़े महारथियों का रिगार्ड तो रखना होता है। हाँ, कोई-कोई छोटे भी होशियार हो जाते हैं तो हो सकता है बड़े को उनका रिगार्ड रखना पड़े क्योंकि बुद्धि उनकी गैलप कर लेती है। सर्विस का शौक देख बाप तो खुश होगा ना, यह अच्छी सर्विस करेंगे। सारा दिन प्रदर्शनी पर समझाने की प्रैक्टिस करनी चाहिए। प्रजा तो ढेर बनती है ना और तो कोई उपाय है नहीं। सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी, राजा, रानी, प्रजा सब यहाँ बनते हैं। कितनी सर्विस करनी चाहिए। बच्चों की बुद्धि में यह तो है– अभी हम ब्राह्मण बने हैं। घर गृहस्थ में रहने से हर एक की अवस्था तो अपनी रहती है ना। घर-बार तो छोड़ना नहीं है। बाप कहते हैं घर में भल रहो परन्तु बुद्धि में यह निश्चय रखना है कि पुरानी दुनिया तो खत्म हुई पड़ी है। हमारा अब बाप से काम है। यह भी जानते हैं कल्प पहले जिन्होंने ज्ञान लिया था वही लेंगे। सेकेण्ड बाई सेकेण्ड हूबहू रिपीट हो रहा है। आत्मा में ज्ञान रहता है ना। बाप के पास भी ज्ञान रहता है। तुम बच्चों को भी बाप जैसा बनना है। प्वाइंट धारण करनी है। सभी प्वाइंट एक ही समय नहीं समझाई जाती हैं। विनाश भी सामने खड़ा है। यह वही विनाश है, सतयुग-त्रेता में तो कोई लड़ाई होती नहीं। वह तो बाद में जब बहुत धर्म होते हैं, लश्कर आदि आते हैं तब लड़ाई शुरू होती है। पहले-पहले आत्मायें सतोप्रधान से उतरती हैं फिर सतो, रजो, तमो की स्टेज होती है। तो यह भी सब बुद्धि में रखना है। कैसे राजधानी स्थापन हो रही है। यहाँ बैठे हो तो बुद्धि में रखना है कि शिवबाबा आकर हमको खजाना देते हैं, जिसको बुद्धि में धारण करना है। अच्छे-अच्छे बच्चे नोट्स लिखते हैं। लिखना अच्छा है। तो बुद्धि में टॉपिक्स आयेंगी। आज इस टॉपिक पर समझायेंगे। बाप कहते हैं हमने तुमको कितना खजाना दिया था। सतयुग-त्रेता में तुम्हारे पास अथाह धन था। फिर वाम मार्ग में जाने से वह कम होता गया। खुशी भी कम होती गई। कुछ न कुछ विकर्म होने लगते हैं। उतरते-उतरते कलायें कम होती जाती हैं। सतोप्रधान, सतो, रजो, तमो की स्टेजेस होती हैं। सतो से रजो में आते हैं तो ऐसे नहीं फट से आ जाते हैं। धीरे-धीरे उतरेंगे। तमोप्रधान में भी धीरे-धीरे सीढ़ी उतरते जाते हो, कला कम होती जाती है। दिन-प्रतिदिन कम होती जाती हैं। अभी जम्प लगाना है। तमोप्रधान से सतोप्रधान बनना है, इसके लिए टाइम भी चाहिए। गाया हुआ है चढ़े तो चाखे बैकुण्ठ रस.. काम की चमाट लगती है तो एकदम चकनाचूर हो जाते हैं। हड्डी-हड्डी टूट जाती है। कोई मनुष्य अपना जीवघात करते हैं, आत्मघात नहीं, जीवघात कहा जाता है। यहाँ तो बाप से वर्सा पाना है। बाप को याद करना है क्योंकि बाप से बादशाही मिलती है। अपने से पूछना है हमने बाप को याद कर भविष्य के लिए कितनी कमाई की? कितने अन्धों की लाठी बना? घर-घर में पैगाम देना है कि यह पुरानी दुनिया बदल रही है। बाप नई दुनिया के लिए राजयोग सिखा रहे हैं। सीढ़ी में सब दिखाया है। यह बनाने में मेहनत लगती है। सारा दिन ख्यालात चलता रहता है, ऐसा सहज बनावें जो कोई भी समझ जाए। सारी दुनिया तो नहीं आयेगी। देवी-देवता धर्म वाले ही आयेंगे। तुम्हारी सर्विस तो बहुत चलनी है। तुम तो जानते हो हमारा यह क्लास कब तक चलेगा। वह तो लाखों वर्ष कल्प की आयु समझते हैं। तो शास्त्र आदि सुनाते ही रहते हैं। समझते हैं जब अन्त होगा तब सबका सद्गति दाता आयेगा और जो हमारे चेले होंगे उनकी गति हो जायेगी फिर हम भी जाकर ज्योति में समायेंगे। परन्तु ऐसे तो है नहीं। तुम अभी जानते हो हम अमर बाप द्वारा सच्चीस च्ची अमरकथा सुन रहे हैं। तो अमर बाप जो कहते हैं वह मानना भी है, सिर्फ कहते हैं– मुझे याद करो, पवित्र बनो। नहीं तो सज़ा भी बहुत खानी पड़ेगी। पद भी कम मिलेगा। सर्विस में मेहनत करनी है। जैसे दधीचि ऋषि का मिसाल है। हड्डियां भी सर्विस में दे दी। अपने शरीर का भी ख्याल न कर सारा दिन सर्विस में रहना, उनको कहा जाता है सर्विस में हड्डियां देना। एक है जिस्मानी हड्डी सर्विस, दूसरी है रूहानी हड्डी सर्विस। रूहानी सर्विस वाले रूहानी नॉलेज ही सुनाते रहेंगे। धन दान करते खुशी में नाचते रहेंगे। दुनिया में मनुष्य जो सर्विस करते हैं वह सब है जिस्मानी। शास्त्र सुनाते हैं, वह कोई रूहानी सर्विस तो नहीं है। रूहानी सर्विस तो सिर्फ बाप ही आकर सिखलाते हैं। प्रीचुअल बाप ही आकर प्रीचुअल बच्चों (आत्माओं) को पढाते हैं।

तुम बच्चे अब तैयारी कर रहे हो सतयुगी नई दुनिया में जाने के लिए। वहाँ तुमसे कोई विकर्म नहीं होगा। वह है ही रामराज्य। वहाँ होते ही हैं थोड़े। अभी तो रावणराज्य में सब दुःखी हैं ना। यह सारी नॉलेज भी तुम्हारी बुद्धि में है नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार। इस सीढ़ी के चित्र में ही सारी नॉलेज आ जाती है। बाप कहते हैं यह अन्तिम जन्म पवित्र बनो तो पवित्र दुनिया के मालिक बनोगे। तुम्हें समझाना ऐसा है जो मनुष्यों को पता पड़े कि हम सतोप्रधान से तमोप्रधान बने हैं, फिर याद की यात्रा से ही सतोप्रधान बनेंगे। देखेंगे तो बुद्धि चलेगी, यह नॉलेज कोई के पास नहीं है। कहेंगे इस (सीढ़ी) में और धर्मों का समाचार कहाँ है। वह फिर इस गोले में लिखा हुआ है। वह नई दुनिया में तो आते नहीं हैं। उन्हों को शान्ति मिलती है। भारतवासी ही स्वर्ग में थे ना। बाप भी भारत में आकर राजयोग सिखाते हैं इसलिए भारत का प्राचीन योग सब चाहते हैं। इन चित्रों से वह खुद भी समझ जायेंगे। बरोबर नई दुनिया में सिर्फ भारत ही था। अपने धर्म को भी समझ जायेंगे। भल क्राइस्ट आया, धर्म स्थापन करने। इस समय वह भी तमोप्रधान है। यह रचता और रचना की कितनी बड़ी नॉलेज है।

तुम कह सकते हो हमको किसी के पैसे की दरकार नहीं है। पैसा हम क्या करेंगे। तुम भी सुनो, दूसरों को भी सुनाओ। यह चित्र आदि छपाओ। इन चित्रों से काम लेना है। हाल बनाओ जहाँ यह नॉलेज सुनाई जाए। बाकी हम पैसा लेकर क्या करेंगे। तुम्हारे ही घर का कल्याण होता है। तुम सिर्फ प्रबन्ध करो। बहुत आकर कहेंगे रचता और रचना की नॉलेज तो बड़ी अच्छी है। यह तो मनुष्यों को ही समझनी है। विलायत वाले यह नॉलेज सुनकर बहुत पसन्द करेंगे। बहुत खुश होंगे। समझेंगे हम भी बाप के साथ योग लगायें तो विकर्म विनाश होंगे। सबको बाप का परिचय देना है। समझ जायेंगे यह नॉलेज तो गॉड के सिवाए कोई दे न सके। कहते हैं खुदा ने बहिश्त स्थापन किया परन्तु वह कैसे आते हैं, यह किसको पता नहीं। तुम्हारी बातें सुनकर खुश होंगे फिर पुरूषार्थ कर योग सीखेंगे। तमोप्रधान से सतोप्रधान बनने के लिए पुरूषार्थ करेंगे। सर्विस के लिए तो बहुत ख्याल करने चाहिए। भारत में हुनर दिखायें तब फिर बाबा बाहर में भी भेजेंगे। यह मिशन जायेगी। अभी तो टाइम पड़ा है ना। नई दुनिया बनने में कोई देरी थोड़ेही लगती है। कहाँ भी अर्थक्वेक आदि होती है तो 2-3 वर्ष में एकदम नये मकान आदि बना देते हैं। कारीगर बहुत हों, सामान सारा तैयार हो फिर बनने में देर थोड़ेही लगेगी। विलायत में मकान कैसे बनते हैं– मिनट मोटर। तो स्वर्ग में कितना जल्दी बनते होंगे। सोना-चांदी आदि बहुत तुमको मिल जाता है। खानियों से तुम सोना चांदी हीरे ले आते हो। हुनर तो सब सीख रहे हैं। साइंस का कितना घमण्ड चल रहा है। यह साइंस फिर वहाँ काम में आयेगी। यहाँ सीखने वाले फिर दूसरा जन्म वहाँ ले यह काम में लायेंगे। उस समय तो सारी दुनिया नई हो जाती है, रावण राज्य खत्म हो जाता है। 5 तत्व भी कायदेमुजीब सर्विस में रहते हैं। स्वर्ग बन जाता है। वहाँ कोई ऐसा उपद्रव नहीं होता, रावणराज्य ही नहीं, सब सतोप्रधान हैं।

सबसे अच्छी बात है कि तुम बच्चों का बाप से बहुत लव होना चाहिए। बाप खजाना देते हैं। उसको धारण कर और दूसरों को दान देना है। जितना दान देंगे उतना इकट्ठा होता जायेगा। सर्विस ही नहीं करेंगे तो धारणा कैसे होगी? सर्विस में बुद्धि चलनी चाहिए। सर्विस तो बहुत ढेर हो सकती है। दिन-प्रतिदिन उन्नति को पाना है। अपनी भी उन्नति करनी है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।
धारणा के लिए मुख्य सार:
1) सदा रूहानी सर्विस में तत्पर रहना है। ज्ञान धन दान करके खुशी में नाचना है। खुद धारण कर औरों को धारणा करानी है।
2) बाप जो ज्ञान का खजाना देते हैं, उससे अपनी झोली भरनी है। नोट्स लेने हैं। फिर टॉपिक पर समझाना है। ज्ञान धन का दान करने के लिए उछलते रहना है।
वरदान:
सर्व के दिलों के राज़ को जान सर्व को राज़ी करने वाले सदा विजयी भव!   
विजयी बनने के लिए हर एक के दिल के राज़ को जानना है। किसी के मुख द्वारा निकलने वाले आवाज से उसके दिल के राज़ को जान लो तो विजयी बन सकते हो लेकिन दिल के राज़ को जानने के लिए अन्तर्मुखता चाहिए। जितना अन्तर्मुखी रहेंगे उतना हर एक के दिल के राज़ को जानकर उसे राज़ी कर सकेंगे। राज़ी करने वाले ही विजयी बनते हैं।
स्लोगन:
वैराग्य ऐसी योग्य धरनी है जिसमें जो भी बीज डालेंगे वह फलीभूत अवश्य होगा।   
 

Sunday, February 7, 2016

Murli 08 February 2016

08/02/16 Morning Murli Om Shanti BapDada Madhuban

Sweet children, this is now the time for the stage of ascent. Bharat becomes wealthy from poor. Claim your inheritance of the golden-aged sovereignty from the Father.   
Question:
Which of the Father’s titles cannot be given to Shri Krishna?
Answer:
The Father is the Lord of the Poor. Shri Krishna cannot be called this. He is very wealthy and everyone in his kingdom is rich. When the Father comes, the poorest land of all is Bharat. He makes Bharat wealthy. You say that your Bharat was heaven but is no longer that. It will become that once again. Only Baba, the Lord of the Poor, makes Bharat into heaven.
Song:
At last that day for which we had been waiting has come.   
Om Shanti
Sweetest, spiritual children heard this song. The soul is incognito whereas the body is visible. Souls cannot be seen with these eyes; they are incognito. They definitely do exist, but they are covered with bodies. This is why it is said that souls are incognito. The soul himself says: I am incorporeal. I have come here into the corporeal and become incognito. Souls belong to the incorporeal world. There is no question of being incognito there. Even the Supreme Father, the Supreme Soul, resides there. He is called the Supreme. He is the highest-on-high Soul, the Supreme Soul, who lives completely beyond. The Father says: Just as you are incognito, so I, too, have to come here in an incognito way. I don't enter the jail of a womb. My one name that has continued is Shiva. Even when I enter this body, My name doesn't change. The name of this one's body changes. I am always called Shiva, the Father of all souls. You souls in those bodies are incognito. You perform actions through your bodies. I too am incognito. You children are now receiving the knowledge that a soul is covered by a body. The soul is incognito and the body is “cognito” (recognizable). I am bodiless. The incognito Father speaks knowledge to you through this body. You too are incognito and you listen through your bodies. You understand that Baba has come to make Bharat wealthy from poor once again. You say: Our Bharat. Everyone says of his or her state: Our Gujarat or our Rajasthan. When "mine" is said, there is attachment. Everyone believes that their Bharat is poor, but no one knows when their Bharat was wealthy or how it became that. You children have a lot of intoxication. Our Bharat was very wealthy. There was no question of sorrow there. There were no other religions in the golden age. No one knows that there was just the one deity religion. No one knows the history or geography of the world. You now understand everything very clearly. Our Bharat was very wealthy and it is now very poor. The Father has now come to make it wealthy once again. Bharat was very wealthy in the golden age when it was the kingdom of deities. Where did that kingdom go? No one knows. Even the Rishis and Munis etc. used to say that they didn't know the Creator or creation. The Father says: Even the deities in the golden age don’t have the knowledge of the Creator or of the beginning, the middle and the end of creation. If they had the knowledge that they were to come down the ladder and go into the iron age, they would no longer have the happiness of that sovereignty because they would become very worried. You are now concerned about how you can become satopradhan again like you used to be. You souls also have the knowledge of how you reside in the incorporeal world and how you then come down to the land of happiness. We are now in the stage of ascent. This is the ladder of 84 births. According to the drama, each actor will come down, numberwise, and play his part at his own time. You children now understand who the Lord of the Poor is. The world doesn’t know this. You also heard in the song that at last the day for which all the devotees had been waiting has come. You have now understood when God comes and liberates all the devotees from the path of devotion and takes them into salvation. Baba has once again come into this body. People celebrate the birthday of Shiva, and so He definitely comes. He doesn’t say that He enters the body of Krishna; no. The Father says: The Krishna soul has taken 84 births. This is the last of his many births. The one who existed as the number one is now at the end of his last birth, and the same applies to you. I enter an ordinary body. I come and tell you how you have experienced 84 births. Sikhs believe that the incorporeal One is the Supreme Father, the Supreme Soul, the Father, that He truly changes humans into deities. So, why should we not become deities? Those who became deities will cling to Him. Not a single person believes that they belonged to the deity religion. The history of other religions is very short. For some it is only 500 years and for others 1250 years. Your history is 5000 years. Only those who belonged to the deity religion will go to heaven. All the other religions come later. According to the drama, those who belonged to the deity religion have now been converted into other religions. They will be converted in the same way again and they will return to their original religion. The Father explains: Children, you were the masters of the world. You also understand that Baba is the One who establishes heaven, so why would we not be in heaven? We will definitely claim our inheritance from the Father. This proves that that person belongs to our religion. Those who don't belong here will not even come here. They would say: Why should we go into another religion? You understand that the deities of the golden age had a lot of happiness; they had palaces of gold. There was so much gold in the Somnath Temple. There is no other religion like that one. There wouldn't be another temple as grand as Somnath. There were so many diamonds and jewels there. Buddha etc. would not have palaces studded with diamonds and jewels. How much honour have you maintained for the Father who made you children so elevated? Honour should always be maintained. They believe that they performed good actions in the past. You now understand that only the Purifier Father carries out the best action of all. You souls say that the unlimited Father comes and carries out the most elevated service of all. He changes us from poor to wealthy and from beggars into princes. No one now maintains the honour of the One who made Bharat into heaven. You understand that the temple remembered as the highest of all was looted. No one has ever looted the temple to Lakshmi and Narayan. They looted the temple to Somnath. On the path of devotion too, there are many who are very wealthy. The kings are also numberwise. Those who have a low status do honour to those who have a high status. They sit in court numberwise. Baba is experienced. The courts here are of impure kings. What would the courts of pure kings be like? Since they have so much wealth, their homes would also be so good. You now understand that the Father is teaching you. He is carrying out the establishment of heaven. We become the emperors and empresses of heaven. Then, while coming down, we will become devotees. We will first become worshippers of Shiva; we will worship the One who made us into the masters of heaven. He makes us very wealthy. Bharat is now so poor. Land that used to cost 500 rupees is now valued at more than 5000 rupees. All of these costs are artificial. Land there has no value. Anyone can take as much land as he wants. There will be plenty of land there. There will be palaces by the rivers of sweet water. There will be very few human beings and nature will be your servant. There will be very good fruits and flowers. At present, they have to make so much effort, but, in spite of that, you don't have enough grain. Human beings are dying of hunger and thirst. When you listen to the song, you should have goose pimples. The Father is called the Lord of the Poor. You understand the meaning of “Lord of the Poor”. Whom does He make wealthy? He would surely make the people of the place where He comes wealthy. You children know that it takes you 5000 years to become impure from pure. Baba now instantly makes you pure from impure. He makes you into the most elevated ones. You receive liberation-in-life in a second. You say: Baba, I belong to You. The Father says: Children, you are the masters of the world. As soon as a son is born, he becomes an heir. They have so much happiness! As soon as they see that the child born is a girl, their faces fall. Here, all souls are sons. You now understand that you were the masters of heaven 5000 years ago. Baba made you that. People celebrate the birthday of Shiva but they don't know when Baba came. They don't even know when it was the kingdom of Lakshmi and Narayan. They celebrate His birthday and simply make big temples with Shiva lingams, but they don't know when He came or what He did when He came; they don’t know anything. That is called blind faith. They don't know what their religion is or when it was established. People of all other religions know the time and date that Buddha etc. came. There is no time or date for Shiv Baba or for Lakshmi and Narayan. They have given a duration of hundreds of thousands of years to something that is only 5000 years. Who would be able to remember anything that was hundreds of thousands of years? They don't understand when the deity religion existed in Bharat. If it were hundreds of thousands of years, the population of Bharat would be the largest. The land of Bharat would also be the largest. In hundreds of thousands of years, there would have been countless people. However, there aren't that many. In fact, they have become even fewer (in that religion). The Father sits here and explains all of these things. When people hear these things, they say that they have never heard them before or ever read them in the scriptures. These are wonderful things! The knowledge of the whole cycle is now in the intellects of you children. Now, at the end of the last of his many births, this soul is impure. The one who was satopradhan has now become tamopradhan and he has to become satopradhan again. You souls are now being given teachings. When a soul listens through the ears, the body rocks. Truly, we souls take 84 births. In 84 births we would definitely have had 84 sets of parents. There is this account. It enters your intellect that you take 84 births, and there would also be those who take fewer births. It isn't that everyone will take 84 births. The Father sits here and explains the things that have been written in the scriptures. At least they only speak of 8.4 million births for you, but, for Me, they say that I take countless, infinite number of births. They have put Me into every particle, into pebbles and stones. They say: Wherever I look, I only see You. I only see Krishna everywhere. They say this in Mathura and Vrindavan (places of Krishna). They say that Krishna is omnipresent. Those who belong to the sect of Radhe say that they only see Radhe everywhere. “You are Radhe and I am Radhe.” So, only the one Father is truly the Lord of the Poor. Bharat, the land that was the wealthiest of all, has now become the poorest of all. This is why I have to come in Bharat. This drama is predestined. There cannot be the slightest difference in it. The drama that has been shot will repeat identically; there cannot be the slightest difference in this. You must understand the drama. Drama means drama! Those dramas are limited whereas this drama is unlimited. No one knows the beginning, middle or end of this unlimited drama. They only believe incorporeal God, and not Krishna, to be the Lord of the Poor. Krishna was a wealthy prince of the golden age. God doesn't have a body of His own. He comes and makes you children wealthy. He gives you the teachings of Raja Yoga. You become a barrister etc. through your study and you then earn an income. The Father too is now teaching you. In the future you will become Narayan from an ordinary human. You will take birth; it isn't that the golden age emerges from the ocean. Krishna too took birth. There was no land of Kans etc. at that time. The name ‘Krishna’ is remembered so much! His father is not remembered. Where is his father? Krishna would definitely be someone's child. When Krishna takes birth, there are still a few impure people as well. When all of them are completely finished, he sits on the throne and claims his kingdom. His era (period) begins from that time. That era (period) begins with Lakshmi and Narayan. You write the full account of how this one's kingdom is for this length of time, and that one's kingdom is for that length of time, so that people can then understand that the duration of the cycle cannot be so long. There is the full account of 5000 years. This enters the intellects of you children. Yesterday, we were the masters of heaven. The Father made us that. That is why His birthday, Shiva Jayanti, is celebrated. You know everyone. You have the knowledge of when Christ, Guru Nanak etc. will come again. The history and geography of the world repeat identically. This study is so easy! You know heaven. Truly Bharat was heaven. Bharat is the imperishable land. There cannot be the same praise of anywhere else as there is of Bharat. Only the one Father purifies all the impure ones. Achcha.



To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.
Essence for Dharna:
1.While keeping the knowledge of the beginning, the middle and the end of the drama in your intellect, renounce all worries. Only have the concern to become satopradhan.
2.Baba, the Lord of the Poor, has come to make Bharat wealthy from poor.Become His complete helper. Remember your new world and remain constantly happy.
Blessing:
May you in every situation imbibe the essence and become an easy effort-maker and an all- rounder.   
Understand the essence of whatever you see and hear and let whatever you speak and whatever actions you perform be filled with essence and your efforts will become easy. Such easy effort- makers are all-rounders in every situation. Nothing is seen to be lacking in them. They do not lack courage in any situation nor do they ever speak words such as, “I am unable to do this.” Such easy effort-makers remain simple and easy themselves and also make others easy.
Slogan:
While using the facilities, remain detached from their influence and be loving to the Father.   
 

मुरली 08 फरवरी 2016

08-02-16 प्रातः मुरली ओम् शान्ति “बापदादा” मधुबन

“मीठे बच्चे– अभी यह चढती कला का समय है, भारत गरीब से साहूकार बनता है, तुम बाप से सतयुगी बादशाही का वर्सा ले लो|”  
प्रश्न:
बाप का कौन सा टाइटिल श्रीकृष्ण को नहीं दे सकते हैं?
उत्तर:
बाप है गरीब-निवाज। श्रीकृष्ण को ऐसे नहीं कहेंगे। वह तो बहुत धनवान है, उनके राज्य में सब साहूकार हैं। बाप जब आते हैं तो सबसे गरीब भारत है। भारत को ही साहूकार बनाते हैं। तुम कहते हो हमारा भारत स्वर्ग था, अभी नहीं है, फिर से बनने वाला है। गरीब-निवाज़ बाबा ही भारत को स्वर्ग बनाते हैं।
गीतः
आखिर वह दिन आया आज.....  
ओम् शान्ति।
मीठे-मीठे रूहानी बच्चों ने यह गीत सुना। जैसे आत्मा गुप्त है और शरीर प्रत्यक्ष है। आत्मा इन आंखों से देखने में नहीं आती है, इनकागनीटो है। है जरूर परन्तु इस शरीर से ढकी हुई है इसलिए कहा जाता है आत्मा गुप्त है। आत्मा खुद कहती हैं मैं निराकार हूँ, यहाँ साकार में आकर गुप्त बनी हूँ। आत्माओं की निराकारी दुनिया है। उसमें तो गुप्त की बात नहीं। परमपिता परमात्मा भी वहाँ रहते हैं। उनको कहा जाता है सुप्रीम। ऊंच ते ऊंच आत्मा, परे ते परे रहने वाला परम आत्मा। बाप कहते हैं जैसे तुम गुप्त हो, मुझे भी गुप्त आना पड़े। मैं गर्भजेल में आता नहीं हूँ। मेरा नाम एक ही शिव चला आता है। मैं इस तन में आता हूँ तो भी मेरा नाम नहीं बदलता। इनकी आत्मा का जो शरीर है, इनका नाम बदलता है। मुझे तो शिव ही कहते हैं– सब आत्माओं का बाप। तो तुम आत्मायें इस शरीर में गुप्त हो, इस शरीर द्वारा कर्म करती हो। मैं भी गुप्त हूँ। तो बच्चों को यह ज्ञान अभी मिल रहा है कि आत्मा इस शरीर से ढकी हुई है। आत्मा है इनकागनीटो। शरीर है कागनीटो। मैं भी हूँ अशरीरी। बाप इनकागनीटो इस शरीर द्वारा सुनाते हैं। तुम भी इनकागनीटो हो, शरीर द्वारा सुनते हो। तुम जानते हो बाबा आया हुआ है– भारत को फिर से गरीब से साहूकार बनाने। तुम कहेंगे हमारा भारत। हर एक अपने स्टेट के लिए कहेंगे– हमारा गुजरात, हमारा राजस्थान। हमारा-हमारा कहने से उसमें मोह रहता है। हमारा भारत गरीब है। यह सभी मानते हैं परन्तु उन्हें यह पता नहीं कि हमारा भारत साहूकार कब था, कैसे था। तुम बच्चों को बहुत नशा है। हमारा भारत तो बहुत साहूकार था, दुःख की बात नहीं थी। सतयुग में दूसरा कोई धर्म नहीं था। एक ही देवी-देवता धर्म था, यह किसको पता नहीं है। यह जो वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी है यह कोई नहीं जानते। अभी तुम अच्छी रीति समझते हो, हमारा भारत बहुत साहूकार था। अभी बहुत गरीब है। अब फिर बाप आये हैं साहूकार बनाने। भारत सतयुग में बहुत साहूकार था जबकि देवी-देवताओं का राज्य था फिर वह राज्य कहाँ चला गया। यह कोई नहीं जानते। ऋषि-मुनि आदि भी कहते थे हम रचता और रचना को नहीं जानते हैं। बाप कहते हैं सतयुग में भी देवीदेवताओं को रचता और रचना के आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान नहीं था। अगर उन्हों को भी ज्ञान हो कि हम सीढ़ी उतरते कलियुग में चले जायेंगे तो बादशाही का सुख भी न रहे, चिंता लग जाए। अभी तुमको चिंता लगी हुई है हम सतोप्रधान थे फिर हम सतोप्रधान कैसे बनें! हम आत्मायें जो निराकारी दुनिया में रहती थी, वहाँ से फिर कैसे सुखधाम में आये यह भी ज्ञान है। हम अभी चढती कला में हैं। यह 84 जन्मों की सीढ़ी है। ड्रामा अनुसार हर एक एक्टर नम्बरवार अपने-अपने समय पर आकर पार्ट बजायेंगे। अब तुम बच्चे जानते हो गरीब-निवाज़ किसको कहा जाता है, यह दुनिया नहीं जानती। गीत में भी सुना– आखिर वह दिन आया आज, जिस दिन का रास्ता तकते थे....., सब भक्त। भगवान कब आकर हम भक्तों को इस भक्ति मार्ग से छुड़ाए सद्गति में ले जायेंगे– यह अभी समझा है। बाबा फिर से आ गया है इस शरीर में। शिव जयन्ती भी मनाते हैं तो जरूर आते हैं। ऐसे भी नहीं कहेंगे मैं कृष्ण के तन में आता हूँ। नहीं। बाप कहते हैं कृष्ण की आत्मा ने 84 जन्म लिए हैं। उनके बहुत जन्मों के अन्त का यह अन्तिम जन्म है। जो पहले नम्बर में था वह अब अन्त में है ततत्वम्। मैं तो आता हूँ साधारण तन में। तुमको आकर बतलाता हूँ– तुमने कैसे 84 जन्म भोगे हैं। सरदार लोग भी समझते हैं एकोअंकार परमपिता परमात्मा बाप है। वह बरोबर मनुष्य से देवता बनाने वाला है। तो क्यों नहीं हम भी देवता बनें। जो देवता बने होंगे वह एकदम चटक पड़ेंगे। देवी-देवता धर्म का तो एक भी अपने को समझते नहीं। और धर्मों की हिस्ट्री बहुत छोटी है। कोई की 500 वर्ष की, कोई की 1250 वर्ष की। तुम्हारी हिस्ट्री है 5 हज़ार वर्ष की। देवता धर्म वाले ही स्वर्ग में आयेंगे। और धर्म तो आते ही बाद में हैं। देवता धर्म वाले भी अब और धर्मों में कनवर्ट हो गये हैं ड्रामा अनुसार। फिर भी ऐसे कनवर्ट हो जायेंगे। फिर अपने-अपने धर्म में लौटकर आयेंगे। बाप समझाते हैं– बच्चे, तुम तो विश्व के मालिक थे। तुम भी समझते हो बाबा स्वर्ग की स्थापना करने वाला है तो हम क्यों नहीं स्वर्ग में होंगे, बाप से हम वर्सा जरूर लेंगे– तो इससे सिद्ध होता है यह हमारे धर्म का है। जो नहीं होगा वह आयेगा ही नहीं। कहेंगे पराये धर्म में क्यों जायें। तुम बच्चे जानते हो सतयुग नई दुनिया में देवताओं को बहुत सुख थे, सोने के महल थे। सोमनाथ के मन्दिर में कितना सोना था। ऐसा कोई दूसरा धर्म होता ही नहीं। सोमनाथ मन्दिर जैसा इतना भारी मन्दिर कोई होगा नहीं। बहुत हीरे-जवाहरात थे। बुद्ध आदि के कोई हीरे-जवाहरातों के महल थोड़ेही होंगे। तुम बच्चों को जिस बाप ने इतना ऊंच बनाया है उनकी तुमने कितनी इज्जत रखी है! इज्जत रखी जाती है ना। समझते हैं अच्छा कर्म करके गये हैं। अभी तुम जानते हो सबसे अच्छे कर्म पतित-पावन बाप ही करके जाते हैं। तुम्हारी आत्मा कहती है सबसे उत्तम से उत्तम सेवा बेहद का बाप आकर करते हैं। हमको रंक से राव, बेगर से प्रिन्स बना देते हैं। जो भारत को स्वर्ग बनाते हैं, उनकी अभी इज्जत कोई नहीं रखते। तुम जानते हो ऊंच ते ऊंच मन्दिर गाया हुआ है जिसको लूट गये। लक्ष्मी-नारायण के मन्दिर को कभी कोई ने लूटा नहीं है। सोमनाथ के मन्दिर को लूटा है। भक्ति मार्ग में भी बहुत धनवान होते हैं। राजाओं में भी नम्बरवार होते हैं ना। जो ऊंच मर्तबे वाले होते हैं तो छोटे मर्तबे वाले उन्हों की इज्जत रखते हैं। दरबार में भी नम्बरवार बैठते हैं। बाबा तो अनुभवी है ना। यहाँ की दरबार है पतित राजाओं की। पावन राजाओं की दरबार कैसी होगी। जबकि उन्हों के पास इतना धन है तो उन्हों के घर भी इतने अच्छे होंगे। अभी तुम जानते हो बाप हमको पढा रहे हैं, स्वर्ग की स्थापना करा रहे हैं। हम महारानी-महाराजा स्वर्ग के बनते हैं फिर हम गिरते-गिरते भक्त बनेंगे तो पहले-पहले शिवबाबा के पुजारी बनेंगे। जिसने स्वर्ग का मालिक बनाया उनकी ही पूजा करेंगे। वह हमको बहुत साहूकार बनाते हैं। अभी भारत कितना गरीब है, जो जमीन 500 रूपये में ली थी उसकी वैल्यू आज 5 हज़ार से भी अधिक हो गई है। यह सब हैं आर्टीफीशियल दाम। वहाँ तो धरती का मूल्य होता नहीं, जिसको जितना चाहिए ले लेवे। ढेर की ढेर जमीन पड़ी होगी। मीठी नदियों पर तुम्हारे महल होंगे। मनुष्य बहुत थोड़े होंगे। प्रकृति दासी होगी। फल-फूल बहुत अच्छे मिलते रहते हैं। अभी तो कितनी मेहनत करनी पड़ती है तो भी अन्न नहीं मिलता। मनुष्य बहुत भूख प्यास में मरते हैं। तो गीत सुनने से तुम्हारे रोमांच खड़े हो जाने चाहिए। बाप को गरीब-निवाज़ कहते हैं। गरीब-निवाज़ का अर्थ समझा ना! किसको साहूकार बनाते हैं? जरूर जहाँ आयेगा उनको साहूकार बनायेगा ना। तुम बच्चे जानते हो– हमको पावन से पतित बनने में 5 हज़ार वर्ष लगते हैं। अभी फिर फट से बाबा पतित से पावन बनाते हैं। ऊंच ते ऊंच बनाते हैं, एक सेकेण्ड में जीवनमुक्ति मिल जाती है। कहते हैं बाबा हम आपका हूँ। बाप कहते बच्चे, तुम विश्व का मालिक हो। बच्चा पैदा हुआ और वारिस बना। कितनी खुशी होती है। बच्ची को देख चेहरा उतर जाता। यहाँ तो सभी आत्मायें बच्चे हैं। अभी पता पड़ा है कि हम 5 हज़ार वर्ष पहले स्वर्ग के मालिक थे। बाबा ने ऐसा बनाया था। शिवजयन्ती भी मनाते हैं परन्तु यह नहीं जानते कि वह कब आया था। लक्ष्मी-नारायण का राज्य था, यह भी कोई नहीं जानते। जयन्ती मनाते सिर्फ लिंग के बड़े-बड़े मन्दिर बनाते हैं। परन्तु वह कैसे आया, क्या आकर किया, कुछ भी नहीं जानते, इसको कहा जाता है ब्लाईन्ड फेथ, अन्धश्रद्धा। उनको यह पता ही नहीं है कि हमारा धर्म कौन सा है, कब स्थापन हुआ। और धर्म वालों को पता है, बुद्ध कब आया, तिथि तारीख भी है। शिवबाबा की, लक्ष्मी-नारायण की कोई तिथि तारीख नहीं है। 5 हज़ार वर्ष की बात लाखों वर्ष लिख दिये हैं। लाखों वर्ष की बात किसको याद आ सकेगी? भारत में देवी-देवता धर्म कब था, यह समझते नहीं हैं। लाखों वर्ष के हिसाब से तो भारत की आबादी सबसे बड़ी होनी चाहिए। भारत की जमीन भी सबसे बड़ी होनी चाहिए। लाखों वर्ष में कितने मनुष्य पैदा होते, बेशुमार मनुष्य हो जायें। इतने तो हैं नहीं, और ही कमती हो गये हैं, यह सब बातें बाप बैठ समझाते हैं। मनुष्य सुनते हैं तो कहते हैं यह बातें तो कभी नहीं सुनी, न कोई शास्त्र में पढ़ी। यह वन्डरफुल बातें हैं।

अभी तुम बच्चों की बुद्धि में सारे चक्र की नॉलेज है। यह बहुत जन्मों के अन्त के अन्त में अब पतित आत्मा है, जो सतोप्रधान था सो अब तमोप्रधान है फिर सतोप्रधान बनना है। तुम आत्माओं को अब शिक्षा मिल रही है। आत्मा कानों द्वारा सुनती है तो शरीर झूलता है क्योंकि आत्मा सुनती है ना। बरोबर हम आत्मायें 84 जन्म लेती हैं। 84 जन्म में 84 माँ-बाप जरूर मिले होंगे। यह भी हिसाब है ना। बुद्धि में आता है हम 84 जन्म लेते हैं फिर कम जन्म वाले भी होंगे। ऐसे थोड़ेही सब 84 जन्म लेंगे। बाप बैठ समझाते हैं शास्त्रों में क्या-क्या लिख दिया है। तुम्हारे लिए तो फिर भी 84 जन्म कहते, मेरे लिए तो अनगिनत, बेशुमार जन्म कह देते हैं। कण-कण में पत्थर-भित्तर में ठोक दिया है। बस जिधर देखता हूँ तू ही तू। कृष्ण ही कृष्ण है। मथुरा, वृन्दावन में ऐसे कहते रहते हैं। कृष्ण ही सर्वव्यापी है। राधे पंथी वाले फिर कहेंगे राधे ही राधे। तुम भी राधे, हम भी राधे।

तो एक बाप ही बरोबर गरीब-निवाज़ है। भारत जो सबसे साहूकार था, अभी सबसे गरीब बना है इसलिए मुझे भारत में ही आना पड़े। यह बना-बनाया ड्रामा है, इसमें जरा भी फ़र्क नहीं हो सकता। ड्रामा जो शूट हुआ वह हूबहू रिपीट होगा, इसमें पाई का भी फ़र्क नहीं हो सकता। ड्रामा का भी पता होना चाहिए। ड्रामा माना ड्रामा। वह होते हैं हद के ड्रामा, यह है बेहद का ड्रामा। इस बेहद के ड्रामा के आदि-मध्य-अन्त को कोई नहीं जानते। तो गरीब-निवाज़ निराकार भगवान को ही मानेंगे, कृष्ण को नहीं मानेंगे। कृष्ण तो धनवान सतयुग का प्रिन्स बनते हैं। भगवान को तो अपना शरीर है नहीं। वह आकर तुम बच्चों को धनवान बनाते हैं, तुमको राजयोग की शिक्षा देते हैं। पढाई से बैरिस्टर आदि बनकर फिर कमाई करते हैं। बाप भी तुमको अभी पढाते हैं। तुम भविष्य में नर से नारायण बनते हो। तुम्हारा जन्म तो होगा ना। ऐसे तो नहीं स्वर्ग कोई समुद्र से निकल आयेगा। कृष्ण ने भी जन्म लिया ना। कंसपुरी आदि तो उस समय थी नहीं। कृष्ण का कितना नाम गाया जाता है। उनके बाप का गायन ही नहीं। उनका बाप कहाँ है? जरूर कृष्ण किसी का बच्चा होगा ना। कृष्ण जब जन्म लेते हैं तब थोड़े बहुत पतित भी रहते हैं। जब वह बिल्कुल खत्म हो जाते हैं तब वह गद्दी पर बैठते हैं। अपना राज्य ले लेते हैं, तब से ही उनका संवत शुरू होता है। लक्ष्मी-नारायण से ही संवत शुरू होता है। तुम पूरा हिसाब लिखते हो। इनका राज्य इतना समय, फिर इनका इतना समय, तो मनुष्य समझेंगे– यह कल्प की आयु बड़ी हो नहीं सकती। 5 हज़ार वर्ष का पूरा हिसाब है। तुम बच्चों की बुद्धि में आता है ना। हम कल स्वर्ग के मालिक थे। बाप ने बनाया था तब तो उनकी हम शिव जयन्ती मना रहे हैं। तुम सबको जानते हो। क्राइस्ट, गुरूनानक आदि फिर कब आयेंगे, यह तुमको नॉलेज है। वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी हूबहू रिपीट होती है। यह पढाई कितनी सहज है। तुम स्वर्ग को जानते हो, बरोबर भारत स्वर्ग था। भारत अविनाशी खण्ड है। भारत जैसी महिमा और कोई की हो नहीं सकती। सबको पतित से पावन बनाने वाला एक ही बाप है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।
धारणा के लिए मुख्य सार:
1) ड्रामा के आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान बुद्धि में रखते हुए सब चिंतायें छोड़ देनी हैं। एक सतोप्रधान बनने की चिंता रखनी है।
2) गरीब निवाज़ बाबा भारत को गरीब से साहूकार बनाने आया है, उनका पूरा-पूरा मददगार बनना है। अपनी नई दुनिया को याद कर सदा खुशी में रहना है।
वरदान:
हर बात में सार को ग्रहण कर आलराउण्ड बनने वाले सरल पुरूषार्थी भव!  
जो भी बात देखते हो, सुनते हो– उसके सार को समझ लो और जो बोल बोलो, जो कर्म करो उसमें सार भरा हुआ हो तो पुरूषार्थ सरल हो जायेगा। ऐसा सरल पुरूषार्थी सब बातों में आलराउण्ड होता है। उसमें कोई भी कमी दिखाई नहीं देती। कोई भी बात में हिम्मत कम नहीं होती, मुख से ऐसे बोल नहीं निकलते कि हम यह नहीं कर सकते। ऐसे सरल पुरूषार्थी स्वयं भी सरलचित रहते हैं और दूसरों को सरलचित बना देते हैं।
स्लोगन:
साधन यूज करते उनके प्रभाव से न्यारे और बाप के प्यारे बनो।